मोदी ने बजट सत्र में आर्थिक मुद्दों पर सार्थक चर्चा की उम्मीद जताई

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 31, 2020   14:00
मोदी ने बजट सत्र में आर्थिक मुद्दों पर सार्थक चर्चा की उम्मीद जताई

नरेंद्र मोदी ने कहा, “2020 का यह संसद का प्रथम सत्र है, इस दशक का भी यह प्रथम सत्र है और ऐसे में हम सबका प्रयास रहना चाहिए कि यह सत्र इस दशक के उज्ज्वल भविष्य के लिए मजबूत नींव डालने वाला बने।”

नयी दिल्ली। बजट सत्र शुरू होने से पहले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार को कहा कि संसद के दोनों सदनों को मुख्य रूप से आर्थिक मुद्दों पर सार्थक चर्चा करने के साथ ही इन बातों पर केंद्रित होना चाहिए कि वैश्विक आर्थिक स्थितियों का भारत किस प्रकार फायदा उठा सकता है। सत्र शुरू होने से पहले प्रधानमंत्री ने मीडिया को संबोधित करते हुए कहा कि वह चाहते हैं कि दोनों सदनों में आर्थिक मुद्दों पर व्यापक और अधिक अच्छी चर्चा हो। मोदी ने कहा, ‘‘हम सबका प्रयास होना चाहिए कि यह सत्र इस दशक के उज्ज्वल भविष्य के लिए मजबूत नींव डालने वाला बने।’’

इसे भी पढ़ें: लोकसभा में पेश हुआ आर्थिक सर्वे, GDP 6-6.5 फीसदी रहने का अनुमान, जानें 10 बड़ी बातें

उन्होंने कहा कि प्रयास होना चाहिए कि ‘‘आर्थिक गतिविधि को और मजबूत बनाते हुए वैश्विक परिवेश का अधिकतम लाभ भारत को मिले और हमारी सरकार की पहचान पीड़ितों, शोषितों, वंचितों, महिलाओं को सशक्त बनाने की हो।’’ प्रधानमंत्री ने कहा कि इस दशक में हमारा जोर इसी दिशा में रहेगा। उन्होंने कहा कि वह चाहते हैं कि दोनों सदन में “आर्थिक विषयों पर, लोगों को सशक्त बनाने पर व्यापक चर्चा हो, अधिक अच्छी चर्चा हो, दिनों-दिन हमारी चर्चा का स्तर अधिक समृद्ध होता चले।”

इसे भी पढ़ें: विरोध प्रदर्शनों के दौरान हिंसा से लोकतंत्र कमजोर होता है : राष्ट्रपति कोविंद

मोदी ने कहा, “2020 का यह संसद का प्रथम सत्र है, इस दशक का भी यह प्रथम सत्र है और ऐसे में हम सबका प्रयास रहना चाहिए कि यह सत्र इस दशक के उज्ज्वल भविष्य के लिए मजबूत नींव डालने वाला बने।” उन्होंने कहा कि यह सत्र अधिकतम आर्थिक विषयों पर चर्चा केंद्रित रहे और इस बात पर विचार हो कि वैश्विक आर्थिक परिस्थितियों के संदर्भ में भारत किस प्रकार फायदा उठा सकता है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।