लोकसभा में पेश हुआ आर्थिक सर्वे, GDP 6-6.5 फीसदी रहने का अनुमान, जानें 10 बड़ी बातें

लोकसभा में पेश हुआ आर्थिक सर्वे, GDP 6-6.5 फीसदी रहने का अनुमान, जानें 10 बड़ी बातें

आज राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद संसद के सेंट्रल हॉल में दोनों सदनों के संयुक्त अधिवेशन को संबोधित किया। जिसके बाद वित्त मंत्री निर्मला सीतारामन ने आज संसद में आर्थिक सर्वेक्षण रिपोर्ट पेश किया।

संसद का बजट सत्र का पहला चरण 31 जनवरी से 11 फरवरी तक और दूसरा चरण दो मार्च से तीन अप्रैल तक चलेगा। आज राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद संसद के सेंट्रल हॉल में दोनों सदनों के संयुक्त अधिवेशन को संबोधित किया। जिसके बाद वित्त मंत्री निर्मला सीतारामन ने आज संसद में आर्थिक सर्वेक्षण रिपोर्ट पेश किया।

  • आर्थिक समीक्षा 2019-20 संसद में पेश, अगले वित्त वर्ष में आर्थिक वृद्धि दर 6-6.5 प्रतिशत रहने का अनुमान।
  • चालू वित्त वर्ष में आर्थिक वृद्धि दर पांच प्रतिशत रहने का अनुमान, आर्थिक वृद्धि को तेज करने के लिये चालू वित्त वर्ष के राजकोषीय घाटा लक्ष्य में देनी पड़ सकती है ढील।
  • आर्थिक समीक्षा में सरकारी बैंकों की संचालन व्यवस्था में सुधार तथा भरोसा कायम करने के लिए और अधिक सूचनाएं सार्वजनिक रूप से प्रकाशित करने पर जोर। 
  • नया कारोबार शुरू करने, संपत्ति पंजीकरण, कर भुगतान और अनुबंधों के प्रवर्तन को सुगम करने के लिए उपायों की जरूरत।
  • आर्थिक सर्वेक्षण में देश में व्यवसाय करने को आसान बनाने के लिए और सुधार करने का आह्वानकिया गया है। रिपोर्ट में बताया गया है कि वित्तीय वर्ष 2020-2025 के बीच सरकार इंफ्रा सेक्‍टर में 102 लाख करोड़ का निवेश करेगी।
  • रिपोर्ट में सलाह दी गई है कि अगले तीन साल में इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर पर 1.4 ट्रिलियन डॉलर यानी 100 लाख करोड़ के निवेश की जरुरत है ताकि इकोनॉमी की ग्रोथ में यह बाधा न बने।
  • साल 2014 से ही महंगाई निरंतर घटती जा रही है.2014-19 के दौरान अधिकतर आवश्‍यक खाद्य पदार्थों की कीमतों में उतार-चढ़ाव में उल्‍लेखनीय कमी आई है।
  • रिपोर्ट के मुताबिक भारत की विशाल अर्थव्यवस्था की ग्रोथ के लिए एक कुशल बैंकिंग क्षेत्र की आवश्यकता है।
  • साल 2018-19  के दौरान भारतीय रेलवे ने 120 करोड़ टन माल ढुलाई की और यह चौथा सबसे बड़ा माल वाहक बना.इसी तरह रेलवे 840 करोड़ यात्रियों की बदौलत दुनिया का सबसे बड़ा यात्री वाहक बना है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।