पहली बार वोट करने वालों से मोदी बोले, अपना वोट हवाई हमला करने वालों को करें समर्पित

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Apr 10 2019 8:31AM
पहली बार वोट करने वालों से मोदी बोले, अपना वोट हवाई हमला करने वालों को करें समर्पित
Image Source: Google

प्रधानमंत्री ने पहली बार वोट देने वालों से कहा कि आपका पहला वोट ऐसा है जिसे आप पूरी जिंदगी याद रखेंगे। मोदी ने कहा, ‘‘आप हमेशा याद करेंगे कि आपने किसे वोट दिया और किस चुनाव में वोट दिया।’

औसा (महाराष्ट्र), चित्रदूर्ग (कर्नाटक)। पाकिस्तान के अंदर बालाकोट हवाई हमले क जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आगामी लोकसभा चुनावों में पहली बार मतदान करने वालों से मंगलवार को कहा कि वे अपना वोट उन लोगों को समर्पित करें जिन्होंने आतंकवादी शिविरों पर हमले को अंजाम दिया। साथ ही मोदी ने कांग्रेस पर हमला तेज करते हुए कहा कि अगर उनके नेताओं ने समझदारी से काम लिया होता तो पाकिस्तान नहीं बनता। महाराष्ट्र के लातूर जिले में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए पहली बार मतदान करने वाले मतदाताओं से बालाकोट हमले के नाम पर वोट मांग मोदी आदर्श आचार संहिता के दायरे से बाहरजाते भी दिखे। मोदी ने पहली बार मतदान करने वाले लोगों से कहा, ‘‘ क्या आपका पहला वोट हवाई हमला करने वालों के लिए हो सकता है?’’ प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘मैं पहली बार मतदान करने वालों से कहना चाहता हूं: क्या आपका पहला वोट वीर जवानों को समर्पित हो सकता है जिन्होंने पाकिस्तान में हवाई हमले किए।’’ उन्होंने कहा, ‘‘क्या आपका पहला वोट पुलवामा के वीर शहीदों के लिए हो सकता है।’’

प्रधानमंत्री ने पहली बार वोट देने वालों से कहा कि आपका पहला वोट ऐसा है जिसे आप पूरी जिंदगी याद रखेंगे। मोदी ने कहा, ‘‘आप हमेशा याद करेंगे कि आपने किसे वोट दिया और किस चुनाव में वोट दिया।’’ मोदी ने कहा, ‘‘क्या आपका पहला वोट गरीबों को पक्का घर मुहैया कराने वालों के लिए होगा? क्या आपका पहला वोट किसानों के खेतों तक पानी पहुंचाने वालों के लिए नहीं होना चाहिए?’’ मोदी ने कर्नाटक के चित्रदुर्ग की रैली में इसी तर्ज पर पहली बार मतदान करने वालों को संबोधित किया और उनसे कहा कि देश में मजबूत सरकार लाने के बारे में सोचकर वोट दें। उन्होंने कहा कि इस लोकसभा चुनावों में लोगों को केवल एक सांसद या एक प्रधानमंत्री नहीं चुनना है बल्कि मजबूत भारत के लिए मजबूत सरकार चुननी है। उन्होंने कहा, ‘‘मजबूत सरकार ही देश के हित में कड़े निर्णय कर सकती है।’’ महाराष्ट्र और कर्नाटक में रैलियों को संबोधित करते हुए 26 फरवरी के भारतीय वायुसेना के अभियान का मोदी द्वारा जिक्र करने का माकपा ने कड़ा संज्ञान लेते हुए चुनाव आयोग को पत्र लिखा और आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन के आरोप लगाए। माकपा पोलित ब्यूरो के सदस्य निलोत्पल बसु ने कहा, ‘‘गहरे क्षोभ के साथ हम आपका ध्यान प्रधानमंत्री द्वारा आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन की तरफ दिलाना चाहते हैं। वह चुनाव आयोग के विशिष्ट दिशानिर्देश का भी उल्लंघन कर रहे हैं जिसमें वोट मांगने के लिए सशस्त्र बलों का जिक्र करने से परहेज करने के लिए कहा गया है।’’ कांग्रेस प्रवक्ता कपिल सिब्बल ने दिल्ली में संवाददाताओं से कहा कि हमारे शहीदों के नाम पर राजनीति नहीं होनी चाहिए लेकिन ऐसा हो रहा है और इसका ‘दुखद हिस्सा’ यह है कि चुनाव आयोग भी कुछ नहीं कर रहा है।
चुनाव आयोग ने 19 मार्च को परामर्श जारी कर पार्टियों और उनके उम्मीदवारों से अपनी प्रचार सामग्री में सुरक्षा बलों की तस्वीरें लगाने से मना किया था। आयोग ने कहा था, ‘‘...पार्टियों, उम्मीदवारों को सलाह दी जाती है कि उनके प्रचारकों, उम्मीदवारों को चुनाव प्रचार के दौरान रक्षा बलों की गतिविधियों को शामिल करने से परहेज करना चाहिए।’’ मोदी ने कांग्रेस पर हमला बोलते हुए कहा कि आजादी से पहले कांग्रेस नेताओं ने अगर समझदारी से काम लिया होता तो 1947 में पाकिस्तान ना बनता। मोदी ने कहा कि कांग्रेस पार्टी के घोषणापत्र और पाकिस्तान की भाषा एक है। नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला के बयान की ओर इशारा करते हुए मोदी ने कांग्रेस और उसके सहयोगी राकांपा पर जम्मू-कश्मीर में अलग प्रधानमंत्री की मांग करने वालों का साथ देने का आरोप लगाया। मामले में राकांपा प्रमुख शरद पवार पर हमला बोलते हुए मोदी ने पूछा कि क्या मराठा क्षत्रप को ऐसे विचार वाली पार्टी का साथ देना शोभा देता है? दूसरी ओर, मोदी ने कहा कि भाजपा के तहत नए भारत की नीति आतंकवादियों को उनके घर में घुसकर मारने की है। मोदी ने कहा कि पुलवामा आतंकी हमले और बालाकोट पर हवाई हमले के बाद से विपक्षी दल सुरक्षा बलों की वीरता पर सवाल उठा रहे हैं। कांग्रेस पर हमला बोलते हुए प्रधानमंत्री ने आरोप लगाया कि सत्ता में आने के बाद केवल भ्रष्टाचार एक ऐसा काम है जो पार्टी ‘ईमानदारी’ से करती है। मोदी ने कहा, ‘‘आपने देखा होगा कल-परसों कैसे कांग्रेस के दरबारियों के घर से बक्सों में नोट निकले हैं, नोट से वोट खरीदने का ये पाप इनकी राजनीतिक संस्कृति रही है। ये पिछले छह महीने से बोल रहे हैं कि ‘चौकीदार चोर है’ लेकिन नोट कहां से निकले? असली चोर कौन है?’’ मोदी का इशारा मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के करीबियों और अन्य लोगों के खिलाफ कर चोरी तथा हवाला लेनदेन के आरोप में आयकर विभाग द्वारा दिल्ली और मध्य प्रदेश में कई जगह मारे गए छापों की ओर था। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी राफेल सौदे में कथित भ्रष्टाचार के मामले में ‘‘चौकीदार चोर है’’ नारे का इस्तेमाल कर प्रधानमंत्री पर हमला बोलते रहे हैं।

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story

Related Video