MP सरकार ने मुफ्त में बांटे काढ़े के पैकेट, कांग्रेस ने मुख्यमंत्री की तस्वीर पर जताई आपत्ति

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 28, 2020   20:25
MP सरकार ने मुफ्त में बांटे काढ़े के पैकेट, कांग्रेस ने मुख्यमंत्री की तस्वीर पर जताई आपत्ति

हमारे ऋषियों एवं वैद्यों ने आयुर्वेद में ऐसी औषधियां बनाई हैं, जिनसे हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है और हम स्‍वस्‍थ रहते हैं। हमारे आयुष विभाग द्वारा तैयार किया गया विशेष ‘त्रिकुट चूर्ण’ काढ़ा रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में अत्‍यधिक कारगर है। इसे प्रतिदिन तीन से चार बार पिएं।

भोपाल। मध्य प्रदेश में भाजपा सरकार द्वारा मुफ्त में बांटे जा रहे आयुर्वेदिक काढ़े के पैकेट पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की तस्वीर छपी होने पर विपक्षी कांग्रेस ने मंगलवार को आपत्ति जताई जिस पर भाजपा ने कहा कि कांग्रेस हर मुद्दे पर राजनीति कर रही है। कोरोना वायरस के संकट के इस दौर में मध्य प्रदेश सरकार ने लोगों में रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए लगभग एक करोड़ व्‍यक्तियों को मुफ्त में विशेष ‘त्रिकुट चूर्ण’ काढ़ा वितरित करने की योजना बनाई है। मुख्यमंत्री चौहान ने सोमवार को जीवन अमृत योजना का यहां मंत्रालय में शुभारंभ किया और इसके तहत इस काढ़े के 50-50 ग्राम के पैकेट वितरित किए जा रहे हैं। इस दौरान चौहान ने बताया, जीवन अमृत योजना के अंतर्गत आयुष विभाग के सहयोग से मध्‍य प्रदेश लघु वनोपज संघ द्वारा इस काढ़े के 50-50 ग्राम के पैकेट तैयार किए गए हैं। ग्रामीण एवं नगरीय क्षेत्रों में लगभग एक करोड़ व्‍यक्तियों को यह काढ़ा मुफ्त में वितरित किया जा रहा है। उन्होंने कहा, ‘‘कोरोना वायरस संकट के इस दौर में यह आवश्‍यक है कि हर व्यक्ति की रोग प्रतिरोधक क्षमता अच्‍छी रहे, जिससे यह वायरस हमें प्रभावित नहीं कर पाए। हम ऐसे प्रयास करें, जिससे कोरोना वायरस का प्रभाव हो ही नहीं।’’

चौहान ने कहा, ‘‘ हमारे ऋषियों एवं वैद्यों ने आयुर्वेद में ऐसी औषधियां बनाई हैं, जिनसे हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है और हम स्‍वस्‍थ रहते हैं। हमारे आयुष विभाग द्वारा तैयार किया गया विशेष ‘त्रिकुट चूर्ण’ काढ़ा रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में अत्‍यधिक कारगर है। इसे प्रतिदिन तीन से चार बार पिएं।’’ उन्होंने वीडियो कॉन्‍फ्रेंसिंग के माध्‍यम से प्रदेश के विभिन्‍न जिलों के लोगों से बातचीत कर उन्‍हें इस योजना के बारे में बताया। चौहान ने इस काढ़े को बनाने की विधि भी बताई। उन्होंने कहा, ‘‘पीपल, सोंठ एवं काली-मिर्च को समान मात्रा में मिलाकर तथा कूटकर तैयार किए गए त्रिकुट चूर्ण को 3-4 तुलसी के पत्‍तों के साथ एक लीटर पानी में उबालें। जब पानी आधा रह जाए, तब लगभग एक-एक कप कुनकुना काढ़ा दिन में तीन से चार बार पिएं।’’ लेकिन, कांग्रेस नेताओं ने इन काढ़े के पैकेटों पर मुख्यमंत्री चौहान की तस्वीर छापने पर सवाल उठाये हैं। मध्य प्रदेश से कांग्रेस के राज्यसभा सदस्य एवं उच्चतम न्यायालय के वरिष्ठ वकील विवेक तन्खा ने चौहान पर हमला करते हुए ट्विटर पर लिखा, माफ़ करिए शिवराज जी। कोरोना से इस जंग में आपका चित्र सरकारी पैकेटों में छपना बहुत ग़लत संदेश है। सरकारी पैकेटों में ऐसा करना दंडनीय अपराध। क्या आपकी अनुमति से हुआ है? नहीं तो जिस अधिकारी के आदेश से हुआ है, उसे दंडित करें। 

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश में ई-पास के जरिए लोग अपने प्रदेश आ और जा सकेंगे, भोपाल, इंदौर और उज्जैन के लिए जारी नहीं होगें पास

मध्य प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता अजय सिंह यादव ने कहा, मध्य प्रदेश में कोरोना वायरस संक्रमण से कई परिवार के परिवार समाप्त हो गये। 100 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। हमारे जाबांज पुलिस के सिपाही, चिकित्सक अपनी सेवाएं देते हुए शहीद हो गये और प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी अपनी तस्वीरें छपवाने में लगे हुए हैं। उन्होंने आगे लिखा, इस तरह के घटनाक्रम की कोई कल्पना भी नहीं कर सकता है। यादव ने कहा, शिवराज जी, तरह-तरह के पोस्टर, होर्डिग और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में अपने प्रचार में लगे हैं। और अब जो ‘त्रिकुट चूर्ण’बांटे जा रहे हैं उनमें भी शिवराज की फोटो छपवाकर बांटे जा रहे हैं। उन्हें लोगों को राहत देने से ज्यादा अपनी तस्वीर घर-घर पहुंचाने में दिलचस्पी है। इस तरह की राजनीति नहीं होनी चाहिए। वहीं, भाजपा का कहना है कि इसमें कुछ भी गलत नहीं है। मध्य प्रदेश भाजपा के प्रवक्ता रजनीश अग्रवाल ने कहा, शिवराज जी मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री हैं और मुख्यमंत्री होने के नाते इन पैकेटों पर उनकी फोटो छपी है। कांग्रेस हर मुद्दे पर राजनीति कर रही है। उन्होंने तन्खा को चेतावनी देते हुए कहा कि यदि वह समझते हैं कि ऐसा करना दंडनीय अपराध है तो वह मुकदमा दर्ज करें।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।