स्तन कैंसर के जोखिम का पता लगा सकता है एमआरआई

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 27, 2020   17:23
स्तन कैंसर के जोखिम का पता लगा सकता है एमआरआई

मैग्नेटिक रेजोनेंस इमेजिंग (एमआरआई) स्कैन का इस्तेमाल स्तन कैंसर का समयपूर्व पता लगाने में मदद मिलेगी। अमेरिका में मेमोरियल स्लोआन केटेरिंग कैंसर सेंटर के शोधकर्ताओं ने मरीजों के स्तन में स्वस्थ कोशिकाओं की तुलना कैंसरग्रस्त कोशिकाओं, गैर कैंसरकारी कोशिकाओं से की।

न्यूयॉर्क। मैग्नेटिक रेजोनेंस इमेजिंग (एमआरआई) स्कैन का इस्तेमाल स्तन कैंसर का समयपूर्व पता लगाने में मदद मिलेगी। अमेरिका में मेमोरियल स्लोआन केटेरिंग कैंसर सेंटर के शोधकर्ताओं ने मरीजों के स्तन में स्वस्थ कोशिकाओं की तुलना कैंसरग्रस्त कोशिकाओं, गैर कैंसरकारी कोशिकाओं से की।

इसे भी पढ़ें: शिखर धवन का कंधा चोटिल, फील्डिंग के दौरान मैदान से बाहर गए

उन्होंने पाया कि बायोमार्कर (किसी रोग की पहचान के लिए संकेतक) में विभिन्न अंतरों का पता पोजिट्रॉन एमिशन टॉमोग्राफी (पीईटी) या एमआरआई स्कैनिंग से की जा सकती है। ‘जर्नल आफ न्यूक्लियर मेडिसीन’ में यह अनुसंधान प्रकाशित हुआ है।

इसे भी पढ़ें: राहुल की टेस्ट और हार्दिक की फिट होने पर वनडे में वापसी संभव

महिलाओं में ज्यादा होता है इन अंगों में कैंसर होने का खतरा, जानिए इनसे जुड़े लक्षण





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...