अयोध्या में मुसलमानों ने वसीम रिजवी की मोहम्मद पुस्तक के विरोध में किया प्रदर्शन

अयोध्या में मुसलमानों ने वसीम रिजवी की मोहम्मद पुस्तक के विरोध में किया प्रदर्शन

वसीम रिजवी के द्वारा लिखे गए मोहम्मद पुस्तक में इस्लाम के प्रवर्तक हजरत मोहम्मद साहब पर अभद्र टिप्पणियां किये जाने का है आरोप

अयोध्या। वसीम रिजवी द्वारा कुरान की आयतों एवं इस्लाम के प्रवर्तक हजरत मोहम्मद साहब के चरित्र का हनन करते हुए अभद्र टिप्पणियां कर मोहम्मद पुस्तक लिखी गई। और प्रकाशित किए जाने पर अयोध्या में मुस्लिम समुदाय के लोगो ने वसीम रिजवी के विरोध में प्रदर्शन किया। और वसीम रिजवी के गिरफ्तारी की मांग भी किया गया। 

इसे भी पढ़ें: 28 नवंबर को होगा आप की रोजगार गारंटी रैली, सीएम केजरीवाल भी होंगे शामिल 

अयोध्या के चौक क्षेत्र में सैकड़ों के तादाद में मुस्लिम समुदाय से जुड़े लोगों ने जमकर नारे बाजी की और  मुख्यमंत्री के नाम संबोधित जिला प्रशासन को 4 सूत्री ज्ञापन सौपा। जिसमे कहा गया है। वसीम रिजवी की वक्फ बोर्ड से सदस्यता समाप्त की जाए। वसीम रिजवी की किताब मोहम्मद को प्रतिबंधित किया जाए।अल्लाह रसूल और कुरान पर की गई अभद्र टिप्पणी के मामले पर गिरफ्तार किया जाए। वक्फ बोर्ड में भ्रष्टाचार और घोटालों के जांच में यथाशीघ्र दंडित किया जाए।  

इसे भी पढ़ें: आजादी के 75वां वर्ष होने पर 465 स्थलों पर होगी भारत माता की आरती, 75000 लोग गाएंगे वंदे मातरम

डॉ मिर्जा शहाब शाह ने कहा कि वसीम रिजवी को शासन प्रशासन स्तर पर मुसलमान न समझते हुए उसकी शिया वक्फ बोर्ड की सदस्यता समाप्त की जाए वसीम रिजवी द्वारा लिखित पुस्तक मोहम्मद प्रतिबंधित की जाए उसने अपनी  कृतियों से देश में शिया सुन्नी एवं हिंदू मुसलमान के मध्य झगड़ा फसाद कराने के असफल प्रयास के जुर्म में गिरफ्तार किया जाए। वही कहा कि शिया वक्फ बोर्ड में उसके द्वारा किए गए भ्रष्टाचार एवं घोटालों के लिए सरकार द्वारा प्रारंभ की गई जांच को यथाशीघ्र पूर्ण कर दोषियों को दंडित किया जाए।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।