• नायडू ने बच्चों में मोबाइल फोन की लत के खिलाफ जागरूकता फैलाने का आह्वान किया

उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने ईटानगर में एक कार्यक्रम के दौरान कहा कि बच्चों और युवाओं को इंटरनेट पर अत्यधिक निर्भरता के प्रति सावधान रहने की जरूरत है क्योंकि यह रचनात्मकता और मौलिक सोच को खत्म कर देगा।

ईटानगर| उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने शुक्रवार को मोबाइल फोन जैसे डिजिटल उपकरणों की लत से बचने की जरूरत के बारे में बच्चों के बीच जागरूकता फैलाने का आह्वान किया।

उन्होंने ईटानगर में एक कार्यक्रम के दौरान कहा कि बच्चों और युवाओं को इंटरनेट पर अत्यधिक निर्भरता के प्रति सावधान रहने की जरूरत है क्योंकि यह रचनात्मकता और मौलिक सोच को खत्म कर देगा।

इसे भी पढ़ें: भारत ने असम में बेदखली अभियान को लेकर भ्रामक बयान के लिए ओआईसी की आलोचना की

अरुणाचल प्रदेश के लेखकों, शिक्षकों, सामाजिक कार्यकर्ताओं और अन्य प्रमुख हस्तियों के साथ बातचीत करते हुए नायडू ने उनसे आगे आकर युवाओं को लैंगिक भेदभाव और मादक पदार्थों की लत जैसी विभिन्न सामाजिक बुराइयों के बारे में शिक्षित करने का भी अनुरोध किया।

उपराष्ट्रपति ने कहा, उन्हें (बच्चों और युवाओं को) जलवायु परिवर्तन के प्रतिकूल प्रभावों और प्राकृतिक व जल निकायों की रक्षा करने की आवश्यकता से अवगत कराया जाना चाहिए। उपराष्ट्रपति ने कहा कि कोविड-19 ने शारीरिक स्वास्थ्य के महत्व की सीख दी है। उन्होंने राज्य सरकार को कबड्डी जैसे खेलों को प्रोत्साहित करने की सलाह दी।

इसे भी पढ़ें: असम में अतिक्रमण हटाने के अभियान के दौरान पुलिस ने ‘अत्यधिक बल’ प्रयोग किया: एनजीओ