ममता बनर्जी के दिल्ली आते रहने के ऐलान पर नकवी ने कहा- खूब आइए, दिल्ली आपका भी है

ममता बनर्जी के दिल्ली आते रहने के ऐलान पर नकवी ने कहा- खूब आइए, दिल्ली आपका भी है

राष्ट्रीय राजनीति में संभावनाओं को टटोलने और पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में शानदार जीत के बाद पहली बार राष्ट्रीय राजधानी के दौरे पर आयीं बनर्जी ने अपनी यात्रा को ‘‘सफल’’ बताया।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पांच दिवसीय दिल्ली दौरे पर है। पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में भाजपा को करारी शिकस्त देने के बाद ममता बनर्जी की यह पहली दिल्ली यात्रा है। अपने दिल्ली यात्रा के दौरान ममता बनर्जी ने भी यह भी ऐलान किया कि वह हर 2 महीने पर दिल्ली आती रहेंगी। इसी को लेकर केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने बयान दिया है। मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि दिल्ली आपका है, आपको खूब आइए। न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि दिल्ली उनका भी है। पश्चिम बंगाल में उनकी सरकार है जहां जाओ तो हिंसा हो जाती है, पुलिस पकड़ लेती है, गिरफ़्तारियां हो जाती हैं, लोगों को आने नहीं दिया जाता। यहां तो ऐसा नहीं है, खूब आइए।

इससे पहले ममता बनर्जी ने पांच दिवसीय दौरे के बाद दिल्ली से रवाना होने से पहले कहा कि ‘लोकतंत्र कायम रहना चाहिए।’ उन्होंने कहा कि वह हर दो महीने पर राष्ट्रीय राजधानी आएंगी। राष्ट्रीय राजनीति में संभावनाओं को टटोलने और पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में शानदार जीत के बाद पहली बार राष्ट्रीय राजधानी के दौरे पर आयीं बनर्जी ने अपनी यात्रा को ‘‘सफल’’ बताया। तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के सांसद और अपने भतीजे अभिषेक बनर्जी के आवास से रवाना होने से पहले मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘दौरा सफल रहा। राजनीतिक उद्देश्य से अपने कई सहयोगियों से मुलाकात की। हम राजनीतिक मकसद से मिले थे। लोकतंत्र कायम रहना चाहिए। हमारा नारा है ‘लोकतंत्र बचाओ, देश बचाओ।’ मैं यहां हर दो महीने में आऊंगी।’’ 

इसे भी पढ़ें: 'लोकतंत्र बचाओ देश बचाओ' नारे के साथ बोलीं ममता बनर्जी, हर दो महीने में आती रहूंगी

बनर्जी ने यह भी कहा कि वह किसानों के मुद्दे का समर्थन करती हैं और उनके संपर्क में हैं। वह पिछले साल सितंबर में लागू तीन कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के विरोध का जिक्र कर रही थीं। तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो ने कहा, ‘‘राजनीतिक उद्देश्य के लिए विपक्षी एकता से बेहतर कुछ नहीं हो सकता। कोविड-19 प्रोटोकॉल के कारण मैं हर उस नेता से नहीं मिल सकी जिनसे मिलना चाहती थी। हालांकि, बैठकों के नतीजे अच्छे रहे। साथ मिलकर काम करेंगे।’’ बनर्जी ने विपक्षी दलों के कुछ नेताओं से मुलाकात की जिससे 2024 के लोकसभा चुनाव से पहले संभावित एकजुट विपक्ष के बारे में अटकलें लगने लगी। बनर्जी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और कांग्रेस के नेता आनंद शर्मा, कमलनाथ और अभिषेक सिंघवी से मुलाकात की। बनर्जी ने केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी और द्रविड मुनेत्र कषगम (द्रमुक) की नेता कनिमोई से भी मुलाकात की।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।