'नौशेरा का शेर' ब्रिगेडियर उस्मान की टूटी कब्र को भारतीय सेना ने कराया ठीक

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  दिसंबर 31, 2020   21:54
'नौशेरा का शेर' ब्रिगेडियर उस्मान की टूटी कब्र को भारतीय सेना ने कराया ठीक

सूत्रों ने बताया कि कब्र की बदहाल अवस्था के बारे में जानकर सैन्यकर्मियों और पूर्व कर्मियों को गहरा दुख हुआ। उस्मान देश के नायक थे और केवल सेना के नायक नहीं थे, इसलिए अपने नायक का सम्मान करना हर किसी का फर्ज है।

नयी दिल्ली। सेना 1947-48 में भारत-पाकिस्तान युद्ध के दौरान शहीद हुए वरिष्ठ अधिकारी ‘नौशेरा का शेर’ ब्रिगेडियर मोहम्मद उस्मान की दिल्ली में क्षतिग्रस्त कब्र की मरम्मत करा दी है। समाचार एजेंसी एनएनआई ने ट्वीट करके इसकी जानकारी दी है। दक्षिण दिल्ली में जामिया मिल्लिया इस्लामिया के अधिकार क्षेत्र में आने वाले कब्रिस्तान में कब्र को हाल ही में जर्जर स्थिति में पाया गया। सूत्रों ने बताया, ‘‘कब्र की बदहाल अवस्था के बारे में जानकर सैन्यकर्मियों और पूर्व कर्मियों को गहरा दुख हुआ। उस्मान देश के नायक थे और केवल सेना के नायक नहीं थे, इसलिए अपने नायक का सम्मान करना हर किसी का फर्ज है। सेना ने उस्मान की कब्र की मरम्मत का काम शुरू कराया और अभी यह काम चल रहा है।’’ 

इसे भी पढ़ें: J&K में अलग-अलग एनकाउंटर में जख्मी हुए CRPF के अधिकारी और सेना के जवान की मौत 

एब वेब पोर्टल पर कब्र की स्थिति के बारे में कुछ तस्वीरों के बाद बदहाल स्थिति का पता चला जिसके बाद सेना ने मामले का संज्ञान दिया। सेना के एक सूत्र ने बताया, ‘‘यह कब्रिस्तान जामिया मिल्लिया इस्लामिया के अधिकार क्षेत्र में आता है इसलिए प्रशासन के पास इस कब्र की देखरेख की जिम्मेदारी है। और अगर वे यह काम नहीं कर सकते तो सेना अपने नायक की कब्र की देखरेख करने में पूरी तरह सक्षम है।’’ सूत्र ने कहा कि शहीद नायक के अवशेष को दिल्ली छावनी वाले इलाके में ले जाने की कोई योजना नहीं है। यह कब्रिस्तान बटला हाउस के पास है जहां कई और नामी लोग चिरनिंद्रा में लीन हैं। 

इसे भी पढ़ें: पाक की नापाक हरकतें जारी, पुंछ जिले में की गोलीबारी, मोर्टार भी दागे 

विश्वविद्यालय के एक प्रतिनिधि ने बताया, ‘‘संबंधित कब्र की देखरेख के लिए जिम्मेदार सेना की इकाई ने कब्र की मरम्मत का काम कराने के लिए विश्वविद्यालय से औपचारिक तौर पर अनुमति मांगी थी। उन्हें अनुमति दे दी गयी।’’ कब्र के पास एक पट्टिका में लिखा है कि अधिकारी को मरणोपरांत महावीर चक्र से सम्मानित किया गया और अपनी शहादत के पहले शौर्य दिखाने के लिए ‘नौशेरा का शेर’ का खिताब दिया गया। ब्रिगेडियर उस्मान पैराशूट रेजीमेंट से जुड़े हुए थे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।