J&K में अलग-अलग एनकाउंटर में जख्मी हुए CRPF के अधिकारी और सेना के जवान की मौत

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  दिसंबर 29, 2020   21:09
J&K में अलग-अलग एनकाउंटर में जख्मी हुए CRPF के अधिकारी और सेना के जवान की मौत

अधिकारियों ने बताया कि जम्मू कश्मीर के शोपियां जिले में पिछले हफ्ते आतंकवादियों के साथ मुठभेड़ में घायल हुए सेना के एक जवान की इलाज के दौरान सोमवार को अस्पताल में मौत हो गयी।

श्रीनगर। जम्मू कश्मीर में पिछले हफ्ते अलग अलग आतंकी वारदात में घायल हुये केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के एक अधिकारी एवं सेना के एक जवान की इलाज के दौरान मौत हो गयी। एक अधिकारी ने मंगलवार को इसकी जानकारी दी। अधिकारी ने बताया कि केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के एक उप निरीक्षक नेत्रपाल सिंह की मंगलवार को अस्पताल में मौत हो गयी। प्रदेश के गांदेरबल में 23 दिसंबर को ग्रेनेड हमले में वह घायल हो गये थे। इसके बाद ग्रेनेड हमले में जान गंवाने वाले सीआरपीएफ के जवानों की संख्या बढ़ कर दो हो गयी है।इससे पहले हमले वाले दिन बल का एक जवान शहीद हो गया था। 

इसे भी पढ़ें: जम्मू-कश्मीर पुलिस ने एक सैन्य अधिकारी, दो अन्य के खिलाफ आरोप-पत्र दायर किया 

दूसरी ओर अधिकारियों ने बताया कि जम्मू कश्मीर के शोपियां जिले में पिछले हफ्ते आतंकवादियों के साथ मुठभेड़ में घायल हुए सेना के एक जवान की इलाज के दौरान सोमवार को अस्पताल में मौत हो गयी। अधिकारियों ने बताया कि मृतक जवान की पहचान सेना के हवलदार ए के तोमर के रूप में हुई है। उन्होंने बताया कि शुक्रवार को शोपियां के कनीगाम इलाके में आतंकवादियों के साथ मुठभेड़ में तोमर गंभीर रूप से घायल हो गये थे। इस दौरान दो आतंकवादी भी मारे गये थे। इस बीच, सेना ने यहां बादामीबाग छावनी में एक समारोह में हवलदार तोमर को श्रद्धांजलि दी। चालीस वर्षीय तोमर 2001 में सेना में शामिल हुये थे। वह उत्तर प्रदेश के मेरठ जिले के सिसौली गांव के रहने वाले थे। तोमर के परिवार में पत्नी के अलावा दो बच्चे हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।