नवनीत राणा को सेशन कोर्ट से नहीं मिली राहत, 29 अप्रैल तक सरकारी पक्ष को दाखिल करना होगा जवाब

नवनीत राणा को सेशन कोर्ट से नहीं मिली राहत, 29 अप्रैल तक सरकारी पक्ष को दाखिल करना होगा जवाब
प्रतिरूप फोटो
ANI Image

मुंबई सेशन कोर्ट में अमरावती से निर्दलीय सांसद नवनीत राणा और उनके विधायक पति रवि राणा की जमानत याचिका पर सुनवाई हुई। हालांकि उन्हें कोई राहत नहीं मिली। ऐसे में 29 अप्रैल को उनकी जमानत पर सुनवाई होगी। आपको बता दें कि नवनीत राणा को कोर्ट ने रविवार को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजा था।

मुंबई। अमरावती से निर्दलीय सांसद नवनीत राणा और उनके विधायक पति रवि राणा को फिलहाल राहत नहीं मिली है। आपको बता दें कि सेशन कोर्ट से नवनीत राणा और उनके विधायक पति को राहत नहीं मिली है। इसके अलावा राणा दंपत्ति मामले को लेकर 29 अप्रैल तक सरकारी पक्ष अपना जवाब दाखिल करेगा और फिर जमानत पर सुनवाई की तारीख सामने आएगी। फिलहाल उन्हें जेल में ही रहना होगा।

इसे भी पढ़ें: हनुमान चालीसा विवाद पर उद्धव की कड़ी नसीहत, बाला साहब ने सिखाया, दादागीरी कैसे तोड़नी है 

मुंबई पुलिस ने राणा दंपत्ति को शनिवार को गिरफ्तार किया था। इसके बाद रविवार को उन्हें कोर्ट के समक्ष पेश किया गया था। जहां से कोर्ट ने उन्हें 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया था। इस दौरान भाजपा नेता देवेंद्र फडणवीस ने मुंबई पुलिस पर महिला सांसद के साथ दुर्व्यवहार करने का आरोप लगाया था। उन्होंने कहा था कि महिला सांसद को बाथरूम तक जाने की इजाजत नहीं दी गई। नवनीत राणा ने लोकसभा अध्यक्ष को पत्र लिखकर खुद इसकी शिकायत भी की थी। 

क्या है पूरा मामला ?

नवनीत राणा और उनके विधायक पति रवि राणा ने मातोश्री के बाहर हुनमान चालीसा पढ़ने का ऐलान किया था। जिसको लेकर शिवसैनिक उनके घर के नीचे एकत्रित हो गए। हालांकि नवनीत राणा अपने घर से बाहर नहीं निकलीं और मातोश्री में हनुमान चलीसा के पाठ को लेकर यूटर्न भी ले लिया।

इसे भी पढ़ें: 'जन प्रतिनिधि की जवाबदारी भी बड़ी', नहीं मिली राणा दंपत्ति को HC से राहत, अर्जी खार‍िज  

इस संबंध में उन्होंने कहा था कि मुझे लगता है कि मेरा उद्देश्य स्पष्ट तरीके से पूरा हो गया। हम मातोश्री तक नहीं पहुंच पाए परन्तु जो हनुमान चालीसा हम करने वाले थे, वो कई भक्त वहां मातोश्री के सामने हनुमान चालीसा पढ़ रहे हैं। कहीं न कहीं ये सिद्ध होता है कि हमारी आवाज़ वहां तक पहुंची है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।