समीर वानखेड़े पर नवाब मलिक का हमला जारी, कहा- NCB अधिकारी का जीवन फर्जीवाड़े से भरा है

समीर वानखेड़े पर नवाब मलिक का हमला जारी, कहा- NCB अधिकारी का जीवन फर्जीवाड़े से भरा है

महाराष्ट्र सरकार के मंत्री नवाब मलिक ने कहा कि कहा जा रहा है कि क्रूज़ ड्रग मामले में जांच को भटकाने के लिए नवाब मलिक पिछले 20-22 दिन से अलग-अलग तरह से चीज़ों को सामने ला रहा है।

शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान की गिरफ्तारी के बाद एनसीबी अधिकारी समीर वानखेड़े महाराष्ट्र के मंत्री नवाब मलिक के निशाने पर हैं। एक बार फिर से नवाब मलिक ने समीर वानखेड़े पर बड़ा आरोप लगाते हुए कहा कि एनसीबी अधिकारी का जीवन फर्जीवाड़े से भरा है। नवाब मलिक ने कहा कि फर्जी कागजात के आधार पर समीर वानखेडे अधिकारी बने उन्होंने एक दलित का हक मारा है। उन्होंने कहा कि इलेक्ट्रोनिक जांच में कई चीजें सामने आ जाएंगी। कई गवाहों के कॉल डिटेल की भी जांच होनी चाहिए। नवाब मलिक ने मांग की कि मालदीव के दौरे को भी देखा जाना चाहिए।

नवाब मलिक ने दावा किया कि क्रूज पर ट्रक पार्टी में एक अंतरराष्ट्रीय माफिया मौजूद था। नवाब मलिक ने कहा कि समीर, प्रभाकर, गोसावी के सीडीआर की जांच होनी चाहिए। क्रूज पार्टी में कुछ लोगों को टारगेट करके फंसाया गया है। ग्रुप पर पार्टी में एक दाढ़ीवाला भी मौजूद था। क्रूज के सीसीटीवी फुटेज की भी जांच होनी चाहिए। दाढ़ी वाले की महिला मित्र क्रूज में पिस्तौल के साथ थी। दाढ़ीवाला समीर वानखेडे का दोस्त बताया जा रहा है। 

इसे भी पढ़ें: समीर वानखेड़े पर आरोपों की जांच करेगी NCB, दिल्ली से मुंबई जाएंगी विजिलेंस टीम

महाराष्ट्र सरकार के मंत्री नवाब मलिक ने कहा कि कहा जा रहा है कि क्रूज़ ड्रग मामले में जांच को भटकाने के लिए नवाब मलिक पिछले 20-22 दिन से अलग-अलग तरह से चीज़ों को सामने ला रहा है। मेरा काम है कि अगर कोई आंख पर पट्टी बांध ले तो उसको खोलना मेरा फर्ज़ है। जो लोग जांच करने आए हैं मैं उन्हें कहता हूं कि क्रूज़ की CCTV मंगवाओ, जैसे खंगालेंगे दुनिया का बहुत बड़ा ड्रग माफिया उस पार्टी में था। उन्हीं लोगों ने ये पार्टी आयोजित की थी, खेल तो हो गया लेकिन खेल का खिलाड़ी दाढ़ी लिए हुए क्यों घूम रहा है इसका जवाब NCB को देना पड़ेगा।

  





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।