केरल विधानसभा चुनाव के लिये राजग का घोषणा-पत्र जारी

NDA manifesto
प्रकाश जावड़ेकर ने एक संवाददाता सम्मेलन में दावा किया कि भाजपा का घोषणापत्र प्रगतिवादी, गतिशील और विकास पर केंद्रित है तथा केरल को ऐसे घोषणा-पत्र का इंतजार था।

तिरुवनंतपुरम। केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने बुधवार को यहां केरल विधानसभा चुनावों के लिये भाजपा के नेतृत्व वाले राजग का घोषणा-पत्र जारी किया। इसमें सबरीमला के लिए कानून और “लव जिहाद” के खिलाफ कानून के साथ ही हर परिवार से कम से कम एक सदस्य को रोजगार और हाई स्कूल के छात्रों के लिये मुफ्त लैपटॉप समेत कई वादे किये गए हैं। जावड़ेकर ने एक संवाददाता सम्मेलन में दावा किया कि भाजपा का घोषणापत्र प्रगतिवादी, गतिशील और विकास पर केंद्रित है तथा केरल को ऐसे घोषणा-पत्र का इंतजार था। वाम नेतृत्व वाली प्रदेश सरकार पर निशाना साधते हुए जावड़ेकर ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की परियोजनाओं में मामूली बदलाव कर लोगों के समक्ष उसे अपनी योजना के तौर पर इस्तेमाल करने की कोशिश हुई। 

इसे भी पढ़ें: केंद्रीय कैबिनेट का बड़ा फैसला, 1 अप्रैल से 45 साल से ऊपर सभी को लगेगी कोरोना वैक्सीन

जावड़ेकर ने कहा, “हमारा घोषणा-पत्र प्रगतिशील, गतिशील, आकांक्षी और विकास केंद्रित है। केरल को ऐसे घोषणा-पत्र का इंतजार था।” उन्होंने कहा, “प्रमुख बिंदुओं की बात करें तो यह घोषणापत्र परिवार के कम से कम एक सदस्य को रोजगार देने, केरल को आतंकवाद मुक्त करने, भूख से मुक्त करने, सबरीमला कानून (मंदिर की परंपरा के संरक्षण के लिये), हाईस्कूल के छात्रों को मुफ्त लैपटॉप और लव जिहाद के खिलाफ कानून की गारंटी देता है।” उन्होंने कहा कि अनुसूचित जाति/जनजाति समुदाय के भूमिहीन सदस्यों को कृषि उद्देश्यों के लिये पांच एकड़ जमीन दी जाएगी। घोषणापत्र में गरीबी रेखा से नीचे के परिवार को मुफ्त में छह रसोई गैस सिलेंडरों का वादा भी किया गया है। केंद्रीय मंत्री ने आरोप लगाया, “पिनराई सरकार ने केंद्र सरकार की योजनाओं में मामूली बदलाव पर उनका श्रेय लेना शुरू कर दिया है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़