ऐसा लोकतंत्र बनाने की जरूरत जहां लोग सीधे शासन में भागीदारी कर सके: केजरीवाल

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 26, 2019   08:48
ऐसा लोकतंत्र बनाने की जरूरत जहां लोग सीधे शासन में भागीदारी कर सके: केजरीवाल

दिल्ली पहली बार वार्षिक सीपीए आयोजन की मेजबानी कर रही है। इसमें राष्ट्रमंडल के 24 देशों के 47 प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया।

नयी दिल्ली। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को कहा कि ऐसा लोकतंत्र बनाने की जरूरत है, जहां लोग सीधे तौर पर शासन में भागीदारी कर सकें। वह दिल्ली विधानसभा में ‘कॉमनवेल्थ पार्लियामेंट्री एसोसिएशन’ (सीपीए) द्वारा आयोजित ‘यूथ पार्लियामेंट सेशन’ के शुभारंभ के दौरान भागीदारों को संबोधित कर रहे थे। 

इसे भी पढ़ें: संसदीय लोकतंत्र की सफलता विपक्ष की राय का सम्मान करने पर निर्भर है: ओम बिरला

दिल्ली पहली बार वार्षिक सीपीए आयोजन की मेजबानी कर रही है। इसमें राष्ट्रमंडल के 24 देशों के 47 प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया। केजरीवाल ने कहा, ‘‘मेरा मानना है कि लोकतंत्र एक स्थिर प्रक्रिया नहीं है, यह एक जीवंत प्रक्रिया है। सभ्यता के साथ यह विकसित होती रहती है।’’ मुख्यमंत्री ने विभिन्न राष्ट्रों के प्रतिभागियों से लोकतंत्र को ऐसे मायने में देखने का आग्रह किया, जहां लोगों का उनके चुने हुए प्रतिनिधियों और सरकार के विभिन्न कार्यों पर सीधा नियंत्रण हो।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।