पंजाब की सुरक्षा पर कभी समझौता नहीं किया, सारे वादे पूरे किए: कैप्टन अमरिंदर सिंह

पंजाब की सुरक्षा पर कभी समझौता नहीं किया, सारे वादे पूरे किए: कैप्टन अमरिंदर सिंह

कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि सुरक्षा उपायों को लेकर जो मेरा मखौल उड़ाते हैं, मैं 10 साल सेना में रहा हूं। दूसरी तरफ मैं 9.5 साल पंजाब का गृह मंत्री रहा और संवेदनशील मुद्दे मेरे अधीन थे।

पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने आज प्रेस कॉन्फ्रेंस कर अपनी बात रखी। कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि मैंने हमेशा एक सैनिक की तरह काम किया। सुरक्षा के लिहाज से पंजाब संवेदनशील राज्य है इसलिए यहां की सुरक्षा मेरे लिए सबसे ज्यादा अहम है। पंजाब को पिछले दिनों बहुत कुछ सहना पड़ा है। मैंने पंजाब में अपने ज्यादातर वादे पूरे किए हैं। पंजाब की सुरक्षा पर कभी समझौता नहीं किया है। उन्होंने कहा कि पंजाब में ड्रोन के जरिए ड्रग्स की तस्करी बड़ी है।

कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि सुरक्षा उपायों को लेकर जो मेरा मखौल उड़ाते हैं, मैं 10 साल सेना में रहा हूं। दूसरी तरफ मैं 9.5 साल  पंजाब का गृह मंत्री रहा और संवेदनशील मुद्दे मेरे अधीन थे। जो एक महीने गृह मंत्री रहा वो कहता है कि वो मुझसे ज़्यादा जानता है। अमरिंदर ने कहा कि कोई भी परेशान पंजाब नहीं चाहता। हमें समझना चाहिए कि हम पंजाब में बहुत मुश्किल दौर से गुजरे हैं। उन्होंने कहा कि इन 4.5 वर्षों के दौरान जब मैं वहां था, हमने जो हासिल किया है उसके सभी कागजात यहां दिए गए हैं। यह (तस्वीर 2) हमारा घोषणापत्र है जब मैंने पदभार संभाला था। हमने जो हासिल किया है उसका यह हमारा घोषणापत्र है। 

इसे भी पढ़ें: अमरिंदर सिंह के अगले कदम को लेकर अटकलें तेज, बुधवार को कर सकते हैं नई पार्टी की घोषणा

कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि मैं एक पार्टी बना रहा हूं। अब सवाल ये है कि पार्टी का नाम क्या है, ये मैं आपको नहीं बता सकता क्योंकि ये मैं खुद नहीं जानता। जब चुनाव आयोग पार्टी के नाम और चिन्ह को मंजूर करता है, मैं आपको बता दूंगा।  उन्होंने कहा कि भारत सरकार जानती है कि ड्रोन आ रहे हैं, मुझे लगता है कि ये उन कारणों में से एक कारण है जिसकी वजह से उन्होंने बीएसएफ रेंज को 50 किलोमीटर तक बढ़ाया है। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।