निलंबित डीएसपी दविंदर सिंह मामले में एनआईए ने एक और व्यक्ति को किया गिरफ्तार

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 30, 2020   21:40
निलंबित डीएसपी दविंदर सिंह मामले में एनआईए ने एक और व्यक्ति को किया गिरफ्तार

सिंह को इस साल की शुरुआत में पुलिस ने आतंकवादियों को कश्मीर घाटी पार कराने के मामले में गिरफ्तार किया था। इस मामले में एनआईए ने यह पांचवी गिरफ्तारी की है। आरोपी वर्ष 2014 में भाजपा के टिकट पर राज्य विधानसभा का चुनाव लड़ चुका है। वह हार गया था।

जम्मू। जम्मू-कश्मीर पुलिस के निलंबित पुलिस उपाधीक्षक (डीएसपी) दविंदर सिंह के मामले में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने बृहस्पतिवार को एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया है, जिसे कथित तौर पर हथियार विक्रेता बताया जा रहा है। सिंह को इस साल की शुरुआत में पुलिस ने आतंकवादियों को कश्मीर घाटी पार कराने के मामले में गिरफ्तार किया था। इस मामले में एनआईए ने यह पांचवी गिरफ्तारी की है। आरोपी वर्ष 2014 में भाजपा के टिकट पर राज्य विधानसभा का चुनाव लड़ चुका है। वह हार गया था। 

इसे भी पढ़ें: आजाद ने बांग्लादेश में फंसे जम्मू-कश्मीर के छात्रों को वापस लाने की मांग की

एक अधिकारी ने कहा कि गिरफ्तार व्यक्ति की पहचान तारिक मीर के तौर पर हुई है। एनआईए ने उसे विशेष अदालत के समक्ष पेश किया, जहां से उसे छह दिन की एनआईए हिरासत में भेज दिया गया। एजेंसी को मीर से पूछताछ के दौरान अन्य संपर्कों की जानकारी मिलने की भी उम्मीद है। दक्षिण कश्मीर के सोपियां जिले के मालडूरा के रहने वाले मीर को जम्मू से गिरफ्तार किया गया और उस पर विभिन्न आतंकी संगठनों को हथियार मुहैया कराने में संलिप्त होने का आरोप है। 

इसे भी पढ़ें: श्रीनगर में आतंकवादियों द्वारा किए गए ग्रेनेड हमले में सुरक्षा बल के पांच जवान घायल

नेशनल कॉन्फ्रेंस के टिकट पर सरपंच चुने गए मीर ने वर्ष 2014 में वासी विधानसभा सीट से भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़ा था लेकिन उसे लगभग 1,000 वोट ही मिल सके थे। इस वर्ष जनवरी में डीएसपी को दो आतंकियों और एक अलगाववादी कार्यकर्ता के साथ गिरफ्तार किया गया था। आरोप है कि तत्कालीन डीएसपी इन सभी को कश्मीर घाटी से चंडीगढ़ लेकर जा रहा था। गिरफ्तारी के बाद डीएसपी को निलंबित कर दिया गया था।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।