• नितिन गडकरी ने जयराम ठाकुर के साथ अटल टनल का किया दौरा

केन्द्रीय मंत्री और मुख्यमंत्री का लाहौल स्थित उत्तरी छोर में जिला लाहौल-स्पीति के लोगों ने पारम्परिक तरीके से भव्य स्वागत किया।

शिमला। केन्द्रीय सड़क, परिवहन एवं राजमार्ग, सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम मंत्री नितिन गडकरी ने मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के साथ अटल टनल रोहतांग का दौरा किया। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गत वर्ष 3 अक्तूबर को मनाली से लाहौल-स्पीति को जोड़ने वाली 9.02 किलोमीटर लम्बी टनल को राष्ट्र को समर्पित किया था। केन्द्रीय मंत्री और मुख्यमंत्री का लाहौल स्थित उत्तरी छोर में जिला लाहौल-स्पीति के लोगों ने पारम्परिक तरीके से भव्य स्वागत किया। 

इसे भी पढ़ें: सीएम जयराम ठाकुर का ऐलान, दोषियों के खिलाफ सरकार सख्त कार्रवाई करेगी 

केन्द्रीय मंत्री ने टनल के दक्षिणी छोर में मीडिया के साथ बातचीत करते हुए कहा कि केन्द्र सरकार द्वारा हिमाचल प्रदेश में 19 सुरंगों का निर्माण किया जा रहा है, जिनमें 8 सुरंगों का निर्माण कार्य प्रगति पर है। मनाली-लेह के बीच चार टनल बनाई जाएंगी। शिंकुला, बारालाचा, तंगलंगला और लाचुंगला में इन सुरंगों का निर्माण किया जाएगा। मनाली लेह मार्ग यातायात सुरंग बनने से लेह लद्दाख साल भर देश से जुड़ा रहेगा। सीमावर्ती लोगों को आवागमन की बेहतर सुविधा मिलेगी।   सीमा सड़क संगठन के प्रयासों की सराहना  की और कहा कि शिंकुला, बारालाचा, तंगलंगला, लाचुंगला में भी सुरंगों का निर्माण बीआरओ करेगा। नितिन गडकरी ने कहा कि अटल टनल देखने का आज सौभाग्‍य प्राप्‍त हुआ है। टनल बनने से लेह तक का सफर कम हुआ है। जोजिला पास में टनल का निर्माण कर सेना की राह आसान हुई है। अब शिंकुला पास पर टनल निर्माण कर कारगिल सीमा की दूरी और घटाएंगे।

अटल टनल दुनिया की सबसे लंबी हाइवे टनल है इस टनल की निर्माण लागत करीब 3,200 करोड़ रुपये है. इस प्रोजेक्ट का निर्माण 6 साल से कम समय में होना था लेकिन इसे पूरा होने में 10 साल का समय लगा  टनल हिमालय की पीर पंजाल रेंज में औसत समुद्र तल (एमएसएल) से 3,000 मीटर (10,000 फीट) की ऊंचाई पर बनाई गई है इससे मनाली और लेह के बीच सड़क की दूरी 46 किलोमीटर कम हो गई है साथ ही दोनों जगहों के बीच सफर का समय करीब 4 से 5 घंटे की घट गया है दक्षिण पोर्टल मनाली से 25 किलोमीटर दूर 3,060 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है जबकि इसका उत्तर पोर्टल  लाहौल घाटी में तेलिंगसिस्सु गांव के पास 3,071 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। 

इसे भी पढ़ें: छह बार मुख्यमंत्री रहे वीरभद्र सिंह के जन्मदिवस पर हिमाचल में धूम 

शिक्षा मंत्री गोविन्द सिंह ठाकुर, जनजातीय विकास मंत्री डाॅ. राम लाल मारकण्डा, विधायक किशोरी लाल सागर व सुरेन्द्र शौरी, अतिरिक्त मुख्य सचिव राम सुभग सिंह और जे.सी. शर्मा, पुलिस महानिदेशक संजय कुंडू, प्रधान सचिव लोक निर्माण विभाग शुभाशीष पांडा भी इस अवसर पर केन्द्रीय मंत्री के साथ उपस्थित थे।