जम्मू-कश्मीर के हिंदू और बौद्ध स्मारक स्थलों को भव्यता पुनर्जीवित करने का अभियान

जम्मू-कश्मीर के हिंदू और बौद्ध स्मारक स्थलों को भव्यता पुनर्जीवित करने का अभियान

जम्मू-कश्मीर में कराये गये हालिया सर्वेक्षण के बारे में तरुण विजय का कहना है कि घाटी में अपनी तरह की यह पहली प्रक्रिया है और यह जम्मू-कश्मीर की सांस्कृतिक भव्यता को पुनर्जीवित करने की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की दूरदृष्टि का परिणाम है।

कश्मीर में अपनी तरह की अनोखी पहल के तहत राष्ट्रीय स्मारक प्राधिकरण (एनएमए) ने घाटी में महत्वपूर्ण हिंदू और बौद्ध स्मारक स्थलों का विस्तृत सर्वेक्षण किया है। एनएमए के अध्यक्ष तरुण विजय द्वारा करवाये गये इस सर्वेक्षण में जम्मू-कश्मीर के अभिलेखागार, पुरातत्व और संग्रहालय निदेशालय के अधिकारियों ने भी पूरी मदद की की। एनएमए के अध्यक्ष तरुण विजय ने स्वयं भी मंदिरों और स्मारकों का व्यापक दौरा किया। इस बारे में तरुण विजय का कहना है कि घाटी में अपनी तरह की यह पहली प्रक्रिया है और यह जम्मू-कश्मीर की सांस्कृतिक भव्यता को पुनर्जीवित करने की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की दूरदृष्टि का परिणाम है।

इसे भी पढ़ें: मुठभेड़ों पर राजनीतिक दलों के बयानों को डीजीपी दिलबाग सिंह ने बताया दुर्भाग्यपूर्ण

दूसरी ओर श्रीनगर में भाजपा ने संविधान दिवस के अवसर पर पार्टी कार्यालय में एक सभा आयोजित की जिसमें संवैधानिक मूल्यों को मजबूत बनाने का संकल्प लिया गया। श्रीनगर में भाजपा मुख्यालय में आयोजित कार्यक्रम में संविधान की प्रस्तावना भी पढ़कर सुनायी गयी। इस अवसर पर भाजपा नेताओं ने अपने संबोधनों के माध्यम से बताया कि कैसे केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार सबका साथ सबका विकास और सबका विश्वास के मूलमंत्र का पालन करते हुए देश को आगे बढ़ा रही है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...