UP में लॉकडाउन जैसे हालात नहीं, सिद्धार्थ नाथ सिंह बोले- स्थिति बाकी प्रदेशों से बेहतर

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अगस्त 27, 2020   10:25
UP में लॉकडाउन जैसे हालात नहीं, सिद्धार्थ नाथ सिंह बोले- स्थिति बाकी प्रदेशों से बेहतर

प्रदेश के खादी एवं ग्रामोद्योग मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह का बयान ऐसे समय में आया है जब इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने प्रदेश में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए मंगलवार को अपनी टिप्पणी में प्रदेश में 15 दिन के लिए लॉकडाउन लगाने की बात कही थी।

प्रयागराज। उत्तर प्रदेश सरकार के प्रवक्ता और प्रदेश के कैबिनेट मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने बुधवार को कहा कि प्रदेश में लॉकडाउन जैसे हालात नहीं है और यहां की स्थिति अन्य प्रदेशों के मुकाबले काफी बेहतर है। सिंह ने यहां संवाददाताओं से कहा कि आबादी के लिहाज से पूरे देश में कोरोनामृत्यु दर सबसे कम उत्तर प्रदेश में है। प्रदेश के खादी एवं ग्रामोद्योग मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह का बयान ऐसे समय में आया है जब इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने प्रदेश में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए मंगलवार को अपनी टिप्पणी में प्रदेश में 15 दिन के लिए लॉकडाउन लगाने की बात कही थी।

उच्च न्यायालय के न्यायाधीशन्यायमूर्ति सिद्धार्थ वर्मा और न्यायमूर्ति अजीत कुमार की खंडपीठ ने कहा था, “जब हमें रोजी-रोटी और जीवन के बीच संतुलन बनाना होता है तो जीवन का रहना जरूरी है। जीने के लिए भोजन जरूरी है, न कि भोजन के लिए जीवन। हमें नहीं लगता कि एक पखवाड़े के लिए लॉकडाउन लगाने से प्रदेश की अर्थव्यवस्था ऐसी स्थिति में पहुंच जाएगी कि लोग भूखे मरने लगेंगे।” न्यायालय की टिप्पणी पर हालांकि मंत्री ने कहा, “मैंने उच्च न्यायालय का आदेश अभी पढ़ा नहीं है। अगर न्यायालय ने ऐसा कुछ कहा है तो सरकार उस पर विचार करेगी।” मंत्री ने यहां सर्किट हाउस में अपने विधानसभा क्षेत्र शहर पश्चिमी में छह करोड़ 41 लाख रुपये की लागत से निर्मित 47 सड़कों का लोकार्पण किया। 

इसे भी पढ़ें: UP में कोरोना संक्रमण के 51,317 एक्टिव केस, अब तक 5,898 मरीजों ने गंवाई अपनी जान

प्रदेश में कानून व्यवस्था पर मंत्री ने कि नेशनल क्राइम रिकार्ड ब्यूरो के मुताबिक उत्तर प्रदेश में डकैती और बलात्कार जैसे अपराधों में पिछले तीन सालों में काफी कमी आई है। कानून व्यवस्था पहले से बेहतर हुई है। उन्होंने बताया कि पाल समुदाय के जीवन में बदलाव के लिए गांजा गांव में ऊन प्रोसेसिंग यूनिट स्थापित हो रहा है। प्रयागराज में पाल समुदाय से जुड़े लगभग दो लाख लोग हैं जो इस यूनिट से लाभान्वित होंगे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।