OIC का आमंत्रण लोगों को गुमराह करने की बेकार की कवायद: कांग्रेस

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 24, 2019   11:51
OIC का आमंत्रण लोगों को गुमराह करने की बेकार की कवायद: कांग्रेस

शर्मा ने कहा, ‘‘हम प्रधानमंत्री और विदेश मंत्री को सलाह देंगे कि भारत की पहले से बनी स्थिति का सम्मान करें और जब भारत को पूर्ण सदस्य बनाया जाए, तभी ओआईसी के सम्मेलन में जाएं।’’

नयी दिल्ली। कांग्रेस ने शनिवार को कहा कि इस्लामी सहयोग संगठन के उद्घाटन सत्र में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को मिले आमंत्रण पर सरकार की खुशी से वह हैरान है। पार्टी ने इसे भारत के लोगों को गुमराह करने की बेकार की कवायद करार दिया। पार्टी के वरिष्ठ प्रवक्ता आनंद शर्मा ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और विदेश मंत्री स्वराज को इस्लामी सहयोग संगठन (ओआईसी) के सम्मेलन में शामिल नहीं होने के भारत के पहले से बने रुख का तब तक सम्मान करना चाहिए, जब तक कि देश की बड़ी मुस्लिम आबादी को देखते हुए उसे संगठन का पूर्णरूपेण सदस्य नहीं बनाया जाता।

शर्मा ने कहा, ‘‘मैं हैरान हूं कि सरकार यूएई में ओआईसी के सम्मेलन में संबोधन के लिए विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को मिले आमंत्रण का जश्न मना रही है। गलत मौके पर उत्साह दिखाया जा रहा है और यह भारत में जनता की राय को भ्रमित करने की बेकार की कवायद है।’’ संप्रग सरकार में विदेश राज्य मंत्री रहे शर्मा ने कहा कि अतीत में भारत ने ओआईसी के साथ संबंधों को लेकर हमेशा कड़ा रुख अपनाया है

इसे भी पढ़ें: मसूद अजहर विवाद के बीच चीन के विदेश मंत्री से मिलेंगी सुषमा स्वराज

ओआईसी मुस्लिम बहुल देशों का प्रभावशाली संगठन है। उन्होंने कहा, ‘‘भारत ने पर्यवेक्षक दर्जा देने के ओआईसी के प्रस्ताव को खारिज किया है और स्पष्ट किया है कि उसकी मुस्लिम आबादी को देखते हुए ओआईसी को भारत को पूर्ण सदस्य का दर्जा देना चाहिए।’’ शर्मा ने कहा, ‘‘हम प्रधानमंत्री और विदेश मंत्री को सलाह देंगे कि भारत की पहले से बनी स्थिति का सम्मान करें और जब भारत को पूर्ण सदस्य बनाया जाए, तभी ओआईसी के सम्मेलन में जाएं।’’ 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।