दिल्ली दंगों का एक साल, 1800 से ज्यादा गिरफ्तार और 755 एफआईआर, पुलिस कमिश्नर ने बताया कैसे समान्य हुई स्थिति

दिल्ली दंगों का एक साल, 1800 से ज्यादा गिरफ्तार और 755 एफआईआर, पुलिस कमिश्नर ने बताया कैसे समान्य हुई स्थिति

दिल्ली पुलिस के कमिश्नर एनएन श्रीवास्तव ने इस पर बोलते हुए कहा कि पिछले साल उत्तर पूर्वी दिल्ली में दंगे के बाद स्थिति जब सामान्य हो रही थी तब हमने विभिन्न समुदाय के नेताओं के साथ बातचीत की। इससे लोगों को विश्वास हुआ और स्थिति सामान्य हुई।

पिछले वर्ष दिल्ली में हुए दंगों को एक साल पूरे हो गए। 23 फरवरी 2020 को उत्तर पूर्वी दिल्ली में दंगों के बाद दिल्ली खूब जली थी। इसमें 50 से ज्यादा लोगों ने अपनी जान गंवाई और कई लोग घोयल हुए थे। दिल्ली दंगों के एक बाद दिल्ली पुलिस के कमिश्नर एनएन श्रीवास्तव ने इस पर बोलते हुए कहा कि पिछले साल उत्तर पूर्वी दिल्ली में दंगे के बाद स्थिति जब सामान्य हो रही थी तब हमने विभिन्न समुदाय के नेताओं के साथ बातचीत की। इससे लोगों को विश्वास हुआ और स्थिति सामान्य हुई। 755 शिकायतों को दर्ज़ किया और 1,800 से ज़्यादा लोग गिरफ़्तार किए।

इसे भी पढ़ें: भाजपा शासित नगर निकाय अव्यवस्था के शिकार, आप एकमात्र विकल्प: केजरीवाल

एसएन श्रीवास्तव ने कहा कि जिन लोगों ने दंगों की साजिश रची उनके खिलाफ क़ानूनी कार्रवाई हुई है। 350 से ज्यादा मामलों में चार्जशीट दाखिल हो गई है। 400 से ज्यादा मामलों को हल कर लिया गया है और कोर्ट में विचाराधीन है। गौरतलब है कि 23 फरवरी 2020 को गुजरात के अहमदाबाद में नमस्ते ट्रंप कार्यक्रम की तैयारी चल रही थी। एक दिन बाद अमेरिका राष्ट्रपति भारत आने वाले थे। पिछलेलकई हफ्तों से दिल्ली के शाहीन बाग में धरना चल रहा था। ऐसा ही धरना दिल्ली के मौजपुर में शुरू हुआ। मेट्रो लाइन के पास प्रदर्शनकारी बैठ गए। 22-23 फरवरी के दरमियान रात को जाफराबाद मेट्रो स्टेशन के पास भी रास्ता रोककर प्रदर्शन शुरू हो गए थे। सीएए आंदोलन के वक्त प्रदर्शन बनाम प्रदर्शन का दौर चला। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।