12 सांसदों के निलंबन पर विपक्षी दलों की होगी बैठक, कपिल सिब्बल बोले- सरकार चाहती है सदन न चले !

12 सांसदों के निलंबन पर विपक्षी दलों की होगी बैठक, कपिल सिब्बल बोले- सरकार चाहती है सदन न चले !

विपक्षी दलों के साझा बयान में कहा गया कि राज्यसभा के विपक्षी नेताओं की मंगलवार को बैठक होगी। इस बैठक में सरकार के निर्णय का विरोध करने और संसदीय लोकतंत्र की रक्षा के लिए भविष्य की कार्रवाई पर विचार-विमर्श किया जाएगा।

नयी दिल्ली। संसद के शीतकालीन सत्र के शुरुआत होते ही पहले दिन कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस और शिवसेना समेत 12 सांसदों को राज्यसभा के वर्तमान सत्र से निलंबित कर दिया गया है। जिसका मतलब साफ है कि वो मौजूद संसद सत्र की कार्यवाही में हिस्सा नहीं ले पाएंगे। आपको बता दें कि इन सांसदों ने मानसून सत्र के दौरान राज्यसभा की कार्यवाही के दौरान इन्होंने अमर्यादित आचरण एवं मार्शलों के साथ धक्का-मुक्की की थी।जिसके चलते इन्हें वर्तमान सत्र से निलंबित कर दिया गया। इस मामले को लेकर राज्यसभा में नेता विपक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने अपने दफ्तर में विपक्षी दलों की बैठक बुलाई है। इस बैठक में आगे की रणनीति पर चर्चा होगी। 

इसे भी पढ़ें: क्या बिटकॉइन को मिलने वाला है मुद्रा का दर्जा ? वित्त मंत्री ने दिया यह लिखित जवाब 

विपक्षी दलों के साझा बयान में कहा गया कि राज्यसभा के विपक्षी नेताओं की मंगलवार को बैठक होगी। इस बैठक में सरकार के निर्णय का विरोध करने और संसदीय लोकतंत्र की रक्षा के लिए भविष्य की कार्रवाई पर विचार-विमर्श किया जाएगा।

सरकार चाहती है सदन न चले ! 

कांग्रेस सांसद कपिल सिब्बल ने कहा कि सरकार चाहती है कि सदन न चले। समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक कांग्रेस सांसद कपिल सिब्बल ने कहा कि सरकार की केवल ये मानसिकता है कि विपक्ष के ऊपर किसी तरह से वार करो और इनको मालूम है कि अगर वो इस तरह निलंबित करेंगे तो निश्चित रूप से विपक्ष इसका विरोध करेगी और फिर सदन नहीं चलेगा। वो यही चाहते हैं कि सदन न चले।  

इसे भी पढ़ें: मानसून सत्र में हंगामे को लेकर बड़ा एक्शन, शीतकालीन सत्र से कांग्रेस, टीएमसी और शिवसेना के 12 सांसद राज्यसभा से निलंबित 

12 सांसदों के निलंबन के मामले में बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने कहा कि पिछले सत्र के अंतिम दिन जिस तरह से विपक्षों ने हंगामा किया, मैंने अपने संसदीय जीवन में इस प्रकार की अराजकता नहीं देखी। ये स्वागत योग्य कदम है और जो नियम कानून का पालन नहीं करते, उनको संदेश जाना चाहिए।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।