किसानों की हुई ऐतिहासिक जीत, राहुल गांधी बोले- अपना देश महान है, यहां सत्याग्रही किसान है !

किसानों की हुई ऐतिहासिक जीत, राहुल गांधी बोले- अपना देश महान है, यहां सत्याग्रही किसान है !

कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने ट्वीट किया कि अपना देश महान है, यहां सत्याग्रही किसान है! सत्य की इस जीत में हम शहीद अन्नदाताओं को भी याद करते हैं। कांग्रेस सांसद दीपेंद्र सिंह हुड्डा ने कहा कि यह ऐतिहासिक आंदोलन की ऐतिहासिक जीत है। अब समय आ गया है कि एमएसपी को क़ानूनी रूप दिया जाए।

नयी दिल्ली। कांग्रेस सांसद दीपेंद्र सिंह हुड्डा ने संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम) के आंदोलन स्थगित करने के फैसले का स्वागत करते हुए कहा कि समय आ चुका है जब न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) को कानूनी रूप दिया जाए। एसकेएम ने गुरुवार को किसानों का आंदोलन स्थगित करने का ऐलान किया लेकिन किसान नेता गुरनाम सिंह चडूनी ने साफ शब्दों में कहा कि अगर उनकी मांगें 15 जनवरी तक पूरी नहीं की जाती हैं तो वो आंदोलन बहाल करने का फैसला ले सकते हैं। 

इसे भी पढ़ें: आंदोलन समाप्ती की घोषणा पर बोले नक़वी, सरकार ने टकराव नहीं, टॉक का रास्ता अपनाया है 

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने किसानों का वीडियो साझा करते हुए ट्वीट किया कि अपना देश महान है, यहां सत्याग्रही किसान है! सत्य की इस जीत में हम शहीद अन्नदाताओं को भी याद करते हैं। समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक कांग्रेस सांसद दीपेंद्र सिंह हुड्डा ने कहा कि यह ऐतिहासिक आंदोलन की ऐतिहासिक जीत है। अब समय आ गया है कि एमएसपी को क़ानूनी रूप दिया जाए। बहुत मांगों को सरकार ने लिखित रूप से स्वीकार किया है, उसपर सरकार की क्या नज़र रहती है, उसपर हमारी नज़र रहेगी। हमारें होठों पर मुस्कान है लेकिन आंखें नम हैं।

किसान आंदोलन हुआ स्थगित

एसकेएम ने कृषि कानूनों के खिलाफ एक साल से अधिक समय से जारी प्रदर्शन को गुरुवार को स्थगित करने का फैसला किया और ऐलान किया कि किसान 11 दिसंबर को दिल्ली की सीमाओं वाले विरोध स्थलों से घर लौट जाएंगे और 15 जनवरी को एसकेएम की बैठक फिर होगी। जिसमें देखा जाएगा कि क्या सरकार ने उनकी मांगों को पूरा किया है या नहीं। 

इसे भी पढ़ें: आंदोलन स्थगित होने पर बोलीं हरसिमरत कौर बादल, हम किसानों के साथ हमेशा खड़े रहेंगे

वहीं दूसरी केंद्रीय मंत्री मुख़्तार अब्बास नक़वी ने कहा कि इस सरकार ने टकराव का रास्ता नहीं बल्कि बातचीत का रास्ता अपनाया है। संवेदनशीलता के साथ बातचीत का रास्ता अपनाया है। सरकार की नीति और नियत अन्नदाताओं, कृषि के पक्ष में है। यह हर व्यक्ति समझता है, वह भी समझ रहे हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।