Prabhasakshi's Newsroom । US ने अफगानिस्तान से 82,000 लोगों को किया एयरलिफ्ट ! पंजाब में घमासान तेज

Taliban
अनुराग गुप्ता । Aug 26, 2021 11:04AM
अफगानिस्तान के मौजूदा हालात बदतर होते जा रहे हैं। एकमात्र पंजशीर घाटी को छोड़ दिया जाए तो बाकि प्रांतों पर तालिबान ने कब्जा कर लिया है।

गरीब देशों में शुमार अफगानिस्तान में तालिबान का राज है। ड्रग्स के दम पर तालिबान ने अपनी ताकत बढ़ाई है और अमेरिका को 31 अगस्त तक अफगानिस्तान से निकलने की चेतावनी दी है। हालांकि अमेरिका निकासी की समय-सीमा समाप्त होने के बाद तनावग्रस्त देश में राजनयिक मौजूदगी के लिए अनेक ‘विकल्पों’ पर विचार कर रहा है। अब पंजाब के बाद छत्तीसगढ़ कांग्रेस में भी कलह बढ़ गया है। राहुल गांधी ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंह देव से बातचीत की। हम चर्चा पंजाब की भी करेंगे। 

इसे भी पढ़ें: देश में फिर बढ़ रहे कोरोना वायरस के मामले! 24 घंटे में 46,164 नए मामले, 607 लोगों की मौत 

अमेरिका ने 82,000 लोगों को निकाला

अफगानिस्तान के मौजूदा हालात बदतर होते जा रहे हैं। एकमात्र पंजशीर घाटी को छोड़ दिया जाए तो बाकि प्रांतों पर तालिबान ने कब्जा कर लिया है। पंजशीर घाटी को भी तालिबानियों ने चारों तरफ से घेर रखा है और वहां पर लड़ाई चल रही है, लेकिन पंजशीर घाटी के लोग कब तक टिक पाएंगे ? यह अपने आपने सबसे बड़ा सवाल है। हालांकि इतिहास के पन्नों को पलटे तो पंजशीर घाटी पर पहले भी तालिबान ने कब्जा करने का प्रयास किया था लेकिन पंजशीर को वह कभी नहीं जीत पाए थे।

आपको बता दें कि अफगानिस्तान से लगातार लोगों को निकालने का काम जारी है। सभी मुल्कों की सरकारों ने आपातकालीन ऑपरेशन को गति दी है। अमेरिका का दूतावास काबुल में शिफ्ट हो गया है। इसी संबंध में विदेश मंत्री एंटोनी ब्लिंकन ने जानकारी दी। उन्होंने बताया कि अफगानिस्तान से 82,000 से अधिक लोगों को सुरक्षित निकाला गया है। जिसमें 46 फीसदी महिलाएं और बच्चे हैं।

अफगानिस्तान में करीब 6 हजार अमेरिकी काबुल में पाए गए हैं। जिसमें से 4500 लोगों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया है। हम स्थानीय रूप से कार्यरत कर्मचारियों को अफगानिस्तान से बाहर निकालने पर लगातार ध्यान केंद्रित कर रहे हैं। 

इसे भी पढ़ें: चुनाव आयोग से मिलेंगे TMC के पांच सांसद, सीएम ममता के लिए उपचुनाव कराने की होगी मांग 

आलाकमान के कहने त्याग देंगे पद

छत्तीसगढ़ कांग्रेस में जारी अंतर्कलह पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के चौखट पर आ पहुंचा है। हाल ही में उन्होंने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंह देव के साथ बैठक कर विवाद को सुलझाने का प्रयास किया। वहीं दिल्ली से लौटने के बाद भूपेश बघेल ने स्पष्ट कर दिया कि सोनिया गांधी और राहुल गांधी के कहने पर उन्होंने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी और उन्हीं के कहने पर इस पद को त्याग देंगे।

दरअसल, भूपेश बघेल ने कहा कि मुख्यमंत्री पद के ढाई-ढाई वर्ष के बंटवारे का राग अलाप रहे लोग प्रदेश में राजनीतिक अस्थिरता लाने की कोशिश कर रहे हैं, जिसमें वह कभी सफल नहीं होंगे। बघेल ने कहा कि सोनिया गांधी और राहुल गांधी ने मुझ जैसे किसान को सरकार की जिम्मेदारी सौंपी है। यह सरकार किसानों, आदिवासियों और मजदूरों की है। छत्तीसगढ़ के 2 करोड़ 80 लाख लोगों की है। 

इसे भी पढ़ें: अफगानिस्तान में 31 अगस्त के बाद राजनयिक मौजूदगी के ‘विकल्पों’ पर विचार कर रहे हैं: अमेरिका 

शिअद का कांग्रेस पर हमला

पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू के खेमों के बीच सत्ता को लेकर खींचतान उस वक्त तेज हो गई, जब चार कैबिनेट मंत्रियों और पार्टी के कई विधायकों ने मुख्यमंत्री सिंह को हटाने की खुले तौर पर वकालत करते हुए कहा कि वह कुछ प्रमुख चुनावी वादों को पूरा करने में विफल रहे हैं।

इसी बीच शिअद प्रमुख सुखबीर बादल ने प्रदेश सरकार को घेरने का प्रयास किया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष और कैप्टन अमरिंदर सिंह आपस में लड़ रहे हैं। हालांकि उन्होंने पंजाब के हक के लिए लड़ने वाली एकमात्र पार्टी अकाली दल को बताया है। उन्होंने कहा कि हम पंजाब के लोगों के लिए लड़ाई लड़ रहे हैं। उनका मानना है कि पंजाबियों के लिए एक ही पार्टी है शिअद।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़