पी चिदंबरम का आरोप, दशक का सबसे बड़ा घोटाला है चुनावी बॉन्ड

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 24, 2019   11:09
पी चिदंबरम का आरोप, दशक का सबसे बड़ा घोटाला है चुनावी बॉन्ड

पार्टियों को चुनावी बॉन्ड के जरिये चंदे के इस्तेमाल को लेकर विवाद पैदा हो गया है और कांग्रेस ने इसे ‘‘लोकतंत्र के लिये खतरा” बताया गया क्योंकि इसमें दानकर्ता और दान पाने वाले का पता नहीं होगा।

नयी दिल्ली। कांग्रेस नेता पी चिदंबरम ने चुनावी बॉन्ड को “दशक का सबसे बड़ा घोटाला” करार देते हुए शनिवार को कहा कि जिस दानकर्ता ने भाजपा को दान नहीं दिया उसके बारे में पार्टी को पता होगा और जो पूरी तरह अंधेरे में होगा वह है भारत की जनता। उनकी तरफ से उनके परिवार द्वारा ट्वीट की गई पोस्ट में उन्होंने कहा, “चुनावी बॉन्ड दशक का सबसे बड़ा घोटाला हैं।”

भ्रष्टाचार और धन शोधन के मामले में जेल में बंद चिदंबरम ने कहा कि चुनावी बॉन्ड के खरीदारों के बारे में बैंक को जानकारी होगी और इसलिये सरकार को भी उनके बारे में पता होगा। पूर्व केंद्रीय वित्त मंत्री ने कहा, “दानकर्ता ने किसे दान दिया यह बात पार्टी (भाजपा) को पता होगी। जिस दानकर्ता ने भाजपा को दान नहीं दिया उसके बारे में भी भाजपा को पता होगा। अगर कोई पूरी तरह अंधेर में होगा तो वह भारत के लोग हैं। पारदर्शिता जिंदाबाद!”

इसे भी पढ़ें: मोदी के नेतृत्व में भारत की राजनीतिक संस्कृति, मनोदृष्टि बदली है: जेपी नड्डा

पार्टियों को चुनावी बॉन्ड के जरिये चंदे के इस्तेमाल को लेकर विवाद पैदा हो गया है और कांग्रेस ने इसे ‘‘लोकतंत्र के लिये खतरा” बताया गया क्योंकि इसमें दानकर्ता और दान पाने वाले का पता नहीं होगा।  भाजपा का दूसरी तरफ कहा कि इन बॉन्ड से काले धन पर लगाम लगेगी। 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...