मोदी के नेतृत्व में भारत की राजनीतिक संस्कृति, मनोदृष्टि बदली है: जेपी नड्डा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 24, 2019   11:03
मोदी के नेतृत्व में भारत की राजनीतिक संस्कृति, मनोदृष्टि बदली है: जेपी नड्डा

नड्डा ने कहा कि कांग्रेस तीन तलाक पर प्रतिबंध के सरकार के पहल का विरोध कर रही थी लेकिन उसे समझना चाहिए कि यह प्रथा पाकिस्तान में भी नहीं चल रही है। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार के अच्छे नेतृत्व के कारण संसद में कई विधेयक पारित हुए।

अहमदाबाद। भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने शनिवार को दावा किया कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के सत्ता में आने के बाद भारत की राजनीतिक संस्कृति बदली है और अब देश भ्रष्टाचार से मुक्त है। गांधीनगर में कर्णावती विश्वविद्यालय में ‘युवा संसद’ को संबोधित करते हुए नड्डा ने कहा कि देश में पहले ‘चलता है’ की संस्कृति थी जो अब बदल गई है।

नड्डा ने कहा, ‘‘देश की राजनीतिक संस्कृति बदल गई है। भ्रष्टाचार युक्त से यह भ्रष्टाचार मुक्त हो गई है और विकास युक्त हो गई है।’’ उन्होंने दावा किया, ‘‘पहले ‘चलता है’ की मनोदशा थी और ‘देश में कुछ नहीं बदलेगा’ की सोच थी। लेकिन अब ऐसी सोच है कि हर चीज बदल सकता है।’’ उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 के प्रावधानों को खत्म करना मोदी सरकार का निर्णायक कदम था और इसके वास्तुकार केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह थे।

इसे भी पढ़ें: दिल्ली में भाजपा के मुख्यमंत्री पद का दावेदार बनने का कोई इरादा नहीं: हरदीप पुरी

नड्डा ने कहा, ‘‘यह मुद्दा 70 वर्षों से लंबित था लेकिन हमने इसे किया है। इससे जम्मू-कश्मीर के लोगों को सहयोग मिलेगा जो विकास के फल से वंचित थे।’’ तीन तलाक को अवैध बनाने पर नड्डा ने कहा, ‘‘जब हम सती प्रथा और बाल विवाह को खत्म कर सकते हैं और विधवा विवाह प्रथा लागू कर सकते हैं तो हम तीन तलाक प्रथा को क्यों नहीं खत्म कर सकते हैं।’’ नड्डा ने कहा कि कांग्रेस तीन तलाक पर प्रतिबंध के सरकार के पहल का विरोध कर रही थी लेकिन उसे समझना चाहिए कि यह प्रथा पाकिस्तान में भी नहीं चल रही है। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार के अच्छे नेतृत्व के कारण संसद में कई विधेयक पारित हुए।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।