PAK को भारतीय विदेश मंत्रालय का करारा जवाब, कहा- PM मोदी के कश्मीर दौरे पर टिप्पणी करने का नहीं है कोई अधिकार

PAK को भारतीय विदेश मंत्रालय का करारा जवाब, कहा- PM मोदी के कश्मीर दौरे पर टिप्पणी करने का नहीं है कोई अधिकार
प्रतिरूप फोटो
ANI Image

पाकिस्तान को लेकर भारतीय विदेश मंत्रालय ने साफ कर दिया कि उन्हें ऐसी टिप्पणी करने का कोई अधिकार नहीं है। दरअसल, प्रधानमंत्री मोदी के जम्मू-कश्मीर दौरे को लेकर पाकिस्तान ने आपत्ति जताई थी। पाकिस्तान ने प्रधानमंत्री मोदी की कश्मीर यात्रा को घाटी में नकली सामान्य स्थिति दिखाने की एक और चाल करार दिया था।

नयी दिल्ली। भारतीय विदेश मंत्रालय ने गुरुवार को होने वाली साप्ताहिक प्रेस वार्ता में पाकिस्तान को करारा जवाब दिया है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जम्मू-कश्मीर दौरे पर टिप्पणी करने का पाकिस्तान को कोई अधिकार नहीं है। दरअसल, प्रधानमंत्री मोदी के जम्मू-कश्मीर दौरे को लेकर पाकिस्तान ने आपत्ति जताई थी। 

इसे भी पढ़ें: बलूचों के सुसाइड अटैक से बौखलाया ड्रैगन, पाकिस्तान को बड़ी चेतावनी, चुकानी होगी कीमत 

पाकिस्तान ने प्रधानमंत्री मोदी की कश्मीर यात्रा को घाटी में नकली सामान्य स्थिति दिखाने की एक और चाल करार दिया था। पड़ोसी मुल्क ने कहा था कि 5 अगस्त, 2019 के बाद से अंतरराष्ट्रीय समुदाय ने भारत द्वारा कश्मीर में वास्तविक अंतर्निहित मुद्दों से ध्यान हटाने के लिए इस तरह के कई हताश प्रयासों को देखा है। इसके साथ ही पाकिस्तान ने कश्मीर में चिनाब नदी पर रतेल और क्वार पनबिजली परियोजनाओं के निर्माण के लिए आधारशिला रखने की भी आलोचना की थी।

पाकिस्तान को लेकर भारतीय विदेश मंत्रालय ने साफ कर दिया कि उन्हें ऐसी टिप्पणी करने का कोई अधिकार नहीं है। समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा प्रधानमंत्री मोदी के जम्मू-कश्मीर दौरे पर टिप्पणी करने का पाकिस्तान को कोई अधिकार नहीं है। 

इसे भी पढ़ें: मरियम नवाज का दावा- इमरान खान ने सत्ता में बने रहने के लिये सेना से भीख मांगी थी 

इसके साथ ही अरिंदम बागची ने चीन मुद्दे का भी उल्लेख किया। उन्होंने कहा कि हम चीन के शंघाई जैसे शहरों में कोविड स्थिति से अवगत हैं... चीन के लिए पर्यटक वीजा को फिर से शुरू करने का ये सही समय नहीं है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...