करूणानिधि पर पलानीस्वामी की टिप्पणी, द्रमुक ने जताया विरोध

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Apr 9 2019 6:27PM
करूणानिधि पर पलानीस्वामी की टिप्पणी, द्रमुक ने जताया विरोध
Image Source: Google

उन्होंने कहा, ‘‘ऐसे व्यक्ति की आलोचना की जा सकती है जो लोकतांत्रिक रूप से स्वीकार्य हो। स्टालिन को अध्यक्ष बनने के लिए संघर्ष करने की जरूरत नहीं पड़ी... कड़ी मेहनत के कारण वह पार्टी प्रमुख बने हैं।’’

सलेम (तमिलनाडु)। द्रमुक ने मंगलवार को तमिलनाडु के मुख्यमंत्री के. पलानीस्वामी की उस टिप्पणी के लिए आलोचना की कि द्रमुक के दिवंगत अध्यक्ष एम. करूणानिधि को एम के स्टालिन ने ‘‘नजरबंद’’ कर रखा था। पार्टी ने कहा कि इस तरह की टिप्पणी मुख्यमंत्री को शोभा नहीं देती।

इसे भी पढ़ें: #LatestNews देश दुनिया को प्रभावित करने वाली आज की सबसे बड़ी ख़बरें 09 April 2019

द्रमुक के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा के सदस्य त्रिची शिवा ने कहा कि पलानीस्वामी का बयान ‘‘सीमा रेखा के उल्लंघन’’ के बराबर है और उन्होंने पूछा कि दिवंगत मुख्यमंत्री जे. जयललिता का विदेश में उपचार क्यों नहीं कराया गया? उन्होंने कहा कि स्टालिन कड़ी मेहनत से पार्टी प्रमुख बने हैं और पार्टी ने उन्हें स्वीकार किया है।

इसे भी पढ़ें: #LatestNews देश दुनिया को प्रभावित करने वाली आज की सबसे बड़ी ख़बरें 08 April 2019



उन्होंने कहा, ‘‘ऐसे व्यक्ति की आलोचना की जा सकती है जो लोकतांत्रिक रूप से स्वीकार्य हो। स्टालिन को अध्यक्ष बनने के लिए संघर्ष करने की जरूरत नहीं पड़ी... कड़ी मेहनत के कारण वह पार्टी प्रमुख बने हैं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘हमारी पार्टी ने उन्हें स्वीकार किया है। यह कहना कि (करूणानिधि को) नजरबंद किया गया था, सीमा रेखा का उल्लंघन है।’’ उन्होंने यहां संवाददाताओं से कहा कि इस तरह के बयान मुख्यमंत्री पद पर आसीन व्यक्ति को शोभा नहीं देते।

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story

Related Video