Parliament: Sonia ने उठाया MGNREGA Budget में कटौती का मुद्दा, सरकार ने किया खंडन

Parliament: Sonia ने उठाया MGNREGA Budget में कटौती का मुद्दा, सरकार ने किया खंडन

कांग्रेस की अध्यक्ष सोनिया गांधी ने बृहस्पतिवार को लोकसभा में कहा कि महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना (मनरेगा) के बजट में कटौती की गई है जिसके कारण मजदूरों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है, ऐसे में सरकार को पर्याप्त आवंटन सुनिश्चित करना चाहिए।

संसद के दोनों सदनों में आज भी सामान्य कामकाज हुआ। हालांकि राज्यसभा में आज का दिन 72 सदस्यों के लिए बेहद अहम रहा। राज्यसभा में 72 सदस्यों को विदाई दी गई। इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी बड़ी बातें कहीं। प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी ने राज्यसभा से सेवानिवृत्त हो रहे सदस्यों के बेहतर भविष्य की कामना करते हुए उनसे आग्रह किया कि वे अपने अनुभवों को चारों दिशाओं में ले जाएं और अपने योगदानों को कलमबद्ध कर देश की भावी पीढ़ी को प्रेरित करें। उन्होंने सेवानिवृत्त हो रहे सांसदों के लिए उच्च सदन में दिए गए अपने विदाई भाषण में कहा कि जो सदस्य सेवानिवृत्त हो रहे हैं, उनके पास अनुभव की बहुत बड़ी पूंजी है और कभी-कभी ज्ञान से ज्यादा अनुभव की ताकत होती है। दूसरी ओर लोक सभा में विभिन्न मसलों को लेकर विपक्ष का सरकार के खिलाफ हल्ला बोल जारी रहा। लोकसभा में जलवायु परिवर्तन को लेकर भी चर्चा हुई। 

लोकसभी की कार्यवाही

कांग्रेस की अध्यक्ष सोनिया गांधी ने बृहस्पतिवार को लोकसभा में कहा कि महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना (मनरेगा) के बजट में कटौती की गई है जिसके कारण मजदूरों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है, ऐसे में सरकार को पर्याप्त आवंटन सुनिश्चित करना चाहिए। सोनिया गांधी ने सदन में शून्यकाल के दौरान यह विषय उठाया। सरकार ने उनके आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि मनरेगा के लिए एक लाख करोड़ रुपये से अधिक का आवंटन हुआ है, जबकि पूर्व की संप्रग सरकार के समय न सिर्फ आवंटन कम था, बल्कि ‘भ्रष्टाचार’ भी होता था। 

नागर विमानन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने बृहस्पतिवार को लोकसभा में बताया कि नागर विमानन सुरक्षा ब्यूरो ने वन हैंडबैग नियम लागू करने के विषय पर एयरलाइनों को परिपत्र जारी किए हैं और इनका पालन किया जा रहा है। लोकसभा में ए के पी चिनराज के पूरक प्रश्न के उत्तर में नागर विमानन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने यह जानकारी दी। सिंधिया ने बताया कि 27 मार्च से भारत से विदेशी एयरलाइनों द्वारा प्रत्येक सप्ताह 1783 उड़ानें परिचालित की जायेंगी और घरेलू एयरलाइनें प्रति सप्ताह 1465 उड़ानें संचालित कर रही हैं। 

इसे भी पढ़ें: आतंकी से सहानुभूति रखने वाले सरकारी कर्मी को बर्खास्त करने का कोई नया नियम नहीं

जलवायु परिवर्तन से निपटने में सरकार के कदमों को रेखांकित करते हुए वन, पर्यावरण मंत्री भूपेंद्र यादव ने कहा कि दुनिया के समक्ष इस महत्वपूर्ण चुनौती से निपटने के लिये विकसित देशों द्वारा विकासशील देशों से किये वादों को पूरा करना चाहिए तथा अपनी ऐतिहासिक जिम्मेदारियों को समझना चाहिए। वहीं जलवायु परिवर्तन को देश एवं दुनिया के समक्ष सबसे बड़ी चुनौती बताते हुए पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं भाजपा सांसद जयंत सिन्हा ने कहा कि भारत ने वर्ष 2070 तक शून्य कार्बन उत्सर्जन का लक्ष्य निर्धारित करने सहित कई कदम उठाये हैं लेकिन अन्य देश इस विषय पर अपने प्रयासों को लेकर गंभीर नहीं दिख रहे जो चिंता का विषय है। 

कांग्रेस और कुछ अन्य विपक्षी दलों के सदस्यों ने खेल और खिलाड़ियों को प्रोत्साहन देने की जरूरत पर जोर देते हुए बृहस्पतिवार को लोकसभा में कहा कि देश में खेलों से जुड़े बुनियादी ढांचे का विकास करना चाहिए तथा अंतरराष्ट्रीय स्पर्धाओं का अधिक से अधिक आयोजन करना चाहिए। वहीं, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने कहा कि केंद्र में नरेंद्र मोदी सरकार बनने के बाद खेलों को लेकर माहौल बदला तथा खिलाड़ियों की स्थिति एवं उनको मिलने वाली सुविधाओं में बहुत बदलाव आया है। भारत में खेलकूद को बढ़ावा देने के विषय पर नियम 193 के तहत चर्चा की शुरुआत करते हुए कांग्रेस सांसद गौरव गोगोई ने कहा कि खेल सिर्फ पदकों के लिहाज से महत्वपूर्ण नहीं है, बल्कि इस मायने में महत्वपूर्ण है कि यह हमें सिखाता है कि जब हम जीते तो विनम्र रहें और हारे तो साहस रखें। यह हम नेताओं को भी सीखना चाहिए।

राज्यसभा की कार्यवाही

राज्यसभा में बृहस्पतिवार को 72 सदस्यों को विदाई दी गई। उच्च सदन में 19 राज्यों का प्रतिनिधित्व कर रहे इन सदस्यों का कार्यकाल मार्च से जुलाई के बीच पूरा होने जा रहा है। सेवानिवृत्त हो रहे सदस्यों में कांग्रेस के ए के एंटनी, आनंद शर्मा, अंबिका सोनी, कपिल सिब्बल, भारतीय जनता पार्टी के सुरेश प्रभु, सुब्रमण्यम स्वामी, बहुजन समाज पार्टी के सतीश चंद्र मिश्रा, शिवसेना के संजय राउत, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के प्रफुल्ल पटेल शामिल हैं। सेवानिवृत्त हो रहे सदस्यों में निर्मला सीतारमण, पीयूष गोयल, मुख्तार अब्बास नकवी और आरसीपी सिंह जैसे मंत्री भी शामिल हैं। मनोनीत सदस्यों एम सी मैरीकॉम, स्वपन दासगुप्ता और नरेंद्र जाधव का भी कार्यकाल समाप्त हो रहा है। प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी ने राज्यसभा से सेवानिवृत्त हो रहे सदस्यों के बेहतर भविष्य की कामना करते हुए उनसे आग्रह किया कि वे अपने अनुभवों को चारों दिशाओं में ले जाएं और अपने योगदानों को कलमबद्ध कर देश की भावी पीढ़ी को प्रेरित करें। उन्होंने सेवानिवृत्त हो रहे सांसदों के लिए उच्च सदन में दिए गए अपने विदाई भाषण में कहा कि जो सदस्य सेवानिवृत्त हो रहे हैं, उनके पास अनुभव की बहुत बड़ी पूंजी है और कभी-कभी ज्ञान से ज्यादा अनुभव की ताकत होती है। 

राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू ने बृहस्पतिवार को सभी सांसदों व देश भर के विधायकों से जुनून के साथ बेहतर प्रदर्शन करने और नियमों व प्रक्रियाओं का ईमानदारी से पालने करने की अपील की और कहा कि उन्हें अपने-अपने सदनों में व्यवधान पैदा करने से बचना चाहिए।

इसे भी पढ़ें: विपक्ष ने खेल के बुनियादी ढांचे को मजबूत बनाने पर दिया जोर, भाजपा ने कहा- मोदी सरकार ने माहौल बदला

सरकार ने बृहस्पतिवार को बताया कि बताया कि बीते चार साल के दौरान केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो ने केंद्र सरकार के कर्मचारियों के खिलाफ भ्रष्टाचार के 715 मामले दर्ज किए हैं। कार्मिक राज्य मंत्री जितेंद्र सिंह ने एक प्रश्न के लिखित उत्तर में राज्यसभा को यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि 2017 से 2021 के दौरान सीबीआई ने रिश्वतखोरी और भ्रष्टाचार के आरोपों में विभिन्न विभागों के कम से कम 1,281 कर्मचारियों के खिलाफ मामले दर्ज किए हैं। 

राज्यसभा में बृहस्पतिवार को सदस्य उस समय अपनी हंसी नहीं रोक पाए जब सभापति एम वेंकैया नायडू ने अपनी और दिवंगत जयपाल रेड्डी की एक विचित्र आदत के बारे में सदस्यों को बताया। उन्होंने कहा कि जब वह और रेड्डी आंध्र प्रदेश विधानसभा के सदस्य थे, उस दौरान उन्हें देखकर कई सदस्य अपनी कलम सामने से बगल की जेब में रख लिया करते थे क्योंकि दोनों को अन्य लोगों से कलम मांगने की आदत थी। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...