दिल्ली सरकार ने सभी सरकारी स्कूलों में लागू किया देशभक्ति पाठ्यक्रम, 2 सालों से कर रही थी काम

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 30, 2021   02:07
दिल्ली सरकार ने सभी सरकारी स्कूलों में लागू किया देशभक्ति पाठ्यक्रम, 2 सालों से कर रही थी काम

पिछले लगभग 2 सालों से देश भक्ति पाठ्यक्रम पर काम कर रही दिल्ली सरकार ने दिल्ली के सभी सरकारी स्कूलों में देशभक्ति पाठ्यक्रम को लागू कर दिया है।

पिछले लगभग 2 सालों से देश भक्ति पाठ्यक्रम पर काम कर रही दिल्ली सरकार ने दिल्ली के सभी सरकारी स्कूलों में देशभक्ति पाठ्यक्रम को लागू कर दिया है। पाठ्यक्रम की रूपरेखा को राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद (SCERT) द्वारा 6 अगस्त को अप्रूव और अडॉप्ट कर दिया गया था।

यह पाठ्यक्रम लागू करने से पहले 200 से ज्यादा छात्रों और 20 शिक्षकों के साथ इसे पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर संचालित भी किया गया था ।देश भक्ति पाठ्यक्रम को नर्सरी से 12 वीं तक की कक्षाओं के लिए तीनों उद्देश्य के साथ तैयार किया गया है।

इसे भी पढ़ें: मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने अपने गृहक्षेत्र में कार्यकर्ताओं को दिए चुनावी जीत के टिप्स

इस पाठ्यक्रम का मकसद बच्चों के मन में देश के प्रति जिम्मेदारी की भावना बढ़ाना और बच्चों के मन में देश के प्रति त्त्याग की भावना और त्याग करने वालों के प्रति सम्मान की भावना का विकास करना है। बच्चों के मन में देश के प्रति प्रेम, सम्मान और गर्व की भावना को जगाना है।

इसे भी पढ़ें: Dubai Expo 2020 में भारतीय पवेलियन का उद्घाटन, PM मोदी बोले- आर्थिक विकास को बढ़ावा देने के लिए किए कई सुधार

इस पाठ्यक्रम को छठी से 12वीं तक की कक्षाओं में कई हिस्सों में विभाजित किया गया है। जिसके तहत बच्चों की प्रतिदिन 45 मिनट की क्लास होंगी। 45 मिनट की इस कक्षा की शुरुआत देशभक्ति ध्यान से होगी जिसमें बच्चे किन्हीं पांच देशभक्तों को याद करके उनका आभार व्यक्त करेंगे।

पाठ्यक्रम के आधार पर बच्चों की क्लास रूम चर्चा और ग्रुप चर्चाएं आयोजित की जाएंगी ।क्लासरूम चर्चा का मुख्य उद्देश्य बच्चों को सोचने और अभिव्यक्त करने के लिए प्रेरित करना है ।इसके लिए बच्चों को होमवर्क दिया जाएगा ,होमवर्क के आधार पर ही क्लासरूम चर्चा की प्रश्नावली तैयार होगी।

होमवर्क में बच्चे अपने से तीन बड़ी उम्र के व्यक्तियों से प्रश्नों का जवाब लेंगे इन तीन व्यक्तियों में एक व्यक्ति बच्चे के परिवार का सदस्य और अन्य दो उनके परिवार के बहार के होंगे। देश भक्ति पाठ्यक्रम के तहत छठी से आठवीं कक्षाओं के लिए फ्लैग डे एक्टिविटी रखी गई है। जिसमें बच्चों को तिरंगे का सम्मान और आचरण के बारे में समझाया जाएगा।

 

फ्लैग डे एक्टिविटी की शुरुआत बच्चे तिरंगा बनाकर करेंगे ।देशभक्ति पाठ्यक्रम के अंतर्गत दिल्ली सरकार द्वारा एक बुकलेट जारी की गई है ।जिसमें बच्चे भगत सिंह, चंद्रशेखर ,महात्मा गांधी, सुखदेव जैसे स्वतंत्रता सेनानियों के बारे में पढ़ पाएंगे और उनके जीवन में घटी घटनाओं को जान सकेंगे।

वैसे तो दिल्ली सरकार द्वारा नर्सरी से बारहवीं तक के लिए इस देश भक्ति पाठ्यक्रम को तैयार किया गया है। लेकिन फिलहाल केवल यह पाठ्यक्रम छठी से बारहवीं तक के छात्रों के लिए ही लागू किया जाएगा। नर्सरी से पांचवीं तक की कक्षाओं के लिए पाठ्यक्रम को अगले चरण में लागू किया जाएगा।

देशभक्ति पाठ्यक्रम को लॉन्च करने के दौरान दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि कई सालों के कठिन प्रयासों के बाद हमारी टीम द्वारा यह पाठ्यक्रम तैयार किया गया है ।अब हमें हर इंसान के अंदर भगत सिंह, गांधी, पटेल, सुभाष चंद्र बोस को जगाना है। आज हमारे शिक्षण संस्थान अच्छे डॉक्टर ,वकील ,इंजीनियर पैदा कर रहे हैं। लेकिन अब हम देशभक्त डॉक्टर और देशभक्त इंजीनियर बनाएंगे।

आपको बता दें कि देश भक्ति पाठ्यक्रम के तहत बच्चों को एक अतिरिक्त कक्षा अवश्य लेनी होगी लेकिन बच्चों के लिए इस पाठ्यक्रम में कोई पाठ्य पुस्तिका नहीं होगी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।