केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने की मांग वाली पुनरीक्षण याचिका खारिज

Smriti Irani
Creative Common Licences.
अदालत ने पाया कि सिंह के खिलाफ पहले से ही तीन प्राथमिकियां दर्ज हैं जिनकी विवेचना चल रही है। न्यायमूर्ति दिनेश कुमार सिंह की पीठ ने वर्तिका सिंह की ओर से दाखिल पुनरीक्षण याचिका पर सोमवार को आदेश पारित किया।

लखनऊ| इलाहाबाद उच्च न्यायालय की लखनऊ पीठ ने निशानेबाज वर्तिका सिंह की ओर से दाखिल केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी और उनके सहयोगियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने के अनुरोध वाली पुनरीक्षण याचिका खारिज कर दी है।

सिंह का आरोप है कि उसे महिला आयोग की सदस्य नियुक्त करने के लिए धन की मांग की गई थी। अदालत ने पाया कि सिंह के खिलाफ पहले से ही तीन प्राथमिकियां दर्ज हैं जिनकी विवेचना चल रही है। न्यायमूर्ति दिनेश कुमार सिंह की पीठ ने वर्तिका सिंह की ओर से दाखिल पुनरीक्षण याचिका पर सोमवार को आदेश पारित किया।

वर्तिका ने एमपी-एमएलए अदालत के विशेष न्यायाधीश के 20 फरवरी 2021 के आदेश को चुनौती दी थी,जिसमें विशेष न्यायाधीश ने ईरानी और अन्य के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने की मांग वाली अर्जी खारिज कर दी थी।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़