लोकसभा चुनावों से पहले पायलट का दावा, 2019 में बनेगी UPA की सरकार

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Dec 25 2018 4:41PM
लोकसभा चुनावों से पहले पायलट का दावा, 2019 में बनेगी UPA की सरकार
Image Source: Google

राजस्थान के उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट ने दावा करते हुए कहा कि 2019 में होने वाले लोकसभा चुनावों में यूपीए गठबंधन को भारी बहुमत मिलेगा।

जयपुर। राजस्थान के उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट को पूरा भरोसा है कि आगामी लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की अगुवाई वाले संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) की जीत होगी और केंद्र में उसकी सरकार बनेगी। इसके साथ ही उन्होंने बिहार में सीटों के बंटवारे को लेकर भाजपा पर निशाना साधते हुए इसे दबाव में उठाया गया कदम बताया है जो राजग सरकार की कमजोरी को दिखाता है। पायलट के अनुसार, भाजपा नेताओं के अहंकार के चलते उसके सहयोगी दल राजग गठबंधन को छोड़ रहे हैं और भाजपा अब दबाव और डर में है जो बिहार में सीटों के बंटवारे में दिखता है।

भाजपा को जिताए

पायलट ने कहा कि भाजपा के सहयोगी उसे छोड़ रहे हैं। उपेंद्र कुशवाहा राजग से अलग हो गए हैं। तेलुगु देशम पार्टी पहले ही किनारा कर चुकी है तो शिवसेना भी उनके साथ नहीं। अब भाजपा दबाव में है यही कारण है कि उन्होंने बिहार में जद यू को 17 सीटें दी हैं जिसके केवल दो सांसद हैं। असुरक्षा का इससे बड़ा उदाहरण और क्या हो सकता है। उन्होंने कहा कि भाजपा नेता कांग्रेस के बारे में कहते हैं कि वह अपने सहयोगी दलों के साथ अस्तित्व बचाए रखने की कोशिश कर रही है जबकि तीन राज्यों ...राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ के विधानसभा चुनाव परिणामों से देश भर में मजबूत संदेश गया है।

इसे भी पढ़ें: अखिलेश का योगी सरकार पर निशाना, कहा- युवा पीढ़ी के सपनों को कुचला जा रहा



पायलट ने कहा कि केंद्र की यह पूर्ण बहुमत वाली सरकार इतनी कमजोर हो गयी है कि उसने बिहार में लोकसभा की लगभग आधी सीटें ऐसी पार्टी को देने की घोषणा की है जिसके केवल दो सांसद हैं। पार्टी को डर है कि लोग उसे वोट नहीं देंगे जबकि उसके सहयोगी भी उसे आंखे दिखा रहे हैं। यह तभी होता है जबकि सत्तारूढ सरकार कमजोर हो। पूर्व केंद्रीय मंत्री पायलट ने कहा कि भाजपा को यह तथ्य स्वीकार करना चाहिए कि उसे तीन राज्यों में बड़ा झटका लगा है और उसे हार की जिम्मेदारी लेनी चाहिए। पायलट ने कहा कि नितिन गडकरी पहले ही कह चुके हैं कि पार्टी नेतृत्व को हार की जिम्मेवारी लेनी चाहिए। जब कभी कांग्रेस की हार हुई तो पार्टी के अध्यक्ष राहुल गांधी ने उसे विनम्रता से स्वीकार किया लेकिन भाजपा के नेता इतने अहंकारी हैं कि तीन राज्यों में हार के बावजूद जिम्मेदारी लेने को तैयार नहीं। 

इसके साथ ही पायलट ने भरोसा जताया कि कांग्रेस विधानसभा चुनाव में मिली सफलता को आगामी लोकसभा में भी जारी रखेगी। उन्होंने कहा कि 2013 में हमारी सिर्फ 21 सीटें थीं जो 2018 के हालिया विधानसभा चुनाव में लगभग पांच गुना होकर 99 हो गयी। लगभग 12.5 प्रतिशत मत इधर से उधर हुए हैं। भाजपा का मत प्रतिशत 6.6 प्रतिशत घटा है तो हमारा छह प्रतिशत बढा है। यह बड़ी बात है। पायलट कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष भी हैं। उन्होंने कहा कि विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की जीत से पार्टी कार्यकर्ताओं का मनोबल बढा है 2019 के लोकसभा चुनाव की रणनीति पर काम पहले ही शुरू हो चुका है।

इसे भी पढ़ें: भाजपा के पास कुछ कर दिखाने के लिए अब बहुत कम समय बचा है

उन्होंने कहा कि हमने सरकार बना ली है और अपने चुनावी वादों को पूरा कर रहे हैं। इसके साथ ही हम आगामी चुनाव पर भी ध्यान दे रहे हैं। बैठकों का दौर शुरू हो चुका है। पार्टी लोकसभा चुनावों में भी जोरदार जीत दर्ज करेगी और कांग्रेस की अगुवाई वाला संप्रग केंद्र में सरकार बनाएगा। उल्लेखनीय है कि राज्य की 25 लोकसभा सीटों में से इस वक्त 22 भाजपा के पास हैं, एक कांग्रेस के पास जबकि दो खाली हैं। 2014 में सभी 25 सीटें भाजपा के खाते में गयीं थीं जबकि इसी साल हुए उपचुनाव में दो सीटें कांग्रेस ने जीत लीं।

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story

Related Video