साबर डेयरी की कई परियोजनाओं का PM ने किया उद्घाटन, बोले- गुजरात में रही है सहकारिता की समृद्ध परंपरा

narendra modi guj
ANI
अंकित सिंह । Jul 28, 2022 2:46PM
नरेंद्र मोदी ने आगे कहा कि अर्थव्यवस्था को डेयरी ने स्थिरता भी दी, सुरक्षा भी दी और प्रगति के नए अवसर भी दिए। गुजरात में बीते 2 दशक में जो व्यवस्थाएं तैयार हुई, आज उसके बेहतर परिणाम मिल रहे हैं। आज गुजरात का डेयरी मार्किट 1 लाख करोड़ रुपये तक पहुंच चुका है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने साबर डेयरी की कई परियोजनाओं का उद्घाटन और शिलान्यास किया। इस दौरान प्रधानमंत्री ने कहा कि आज साबर डेयरी का विस्तार हुआ है। सैकड़ों करोड़ रुपए के नए प्रोजेक्ट यहां लग रहे हैं। आधुनिक टेक्नॉलॉजी से लैस मिल्क पाउडर प्लांट और ए-सेप्टिक पैकिंग सेक्शन में एक और लाइन जुड़ने से साबर डेयरी की क्षमता और अधिक बढ़ जाएगी। उन्होंने कहा कि दो दशक पहले यहां क्या स्थितियां थी, ये आप भी जानते हैं और मैंने भी भलीभांति देखा है। आजकल हम गुजरात के कईं हिस्सों में अतिवर्षा की चुनौती से जूझ रहे हैं। लेकिन बारिश आना ही गुजराती के लिए इतना बड़ा सुख और संतोष होता है, इसका अंदाजा बाहर के लोगों को नहीं है। उन्होंने दावा किया कि जैसे जैसे सिंचाई की सुविधाओं का गुजरात में विस्तार हुआ, वैसे वैसे कृषि और पशुपालन के क्षेत्र में हमनें बहुत विकास किया और डेयरी ने उसे बहुत बड़ी ताकत दी।

इसे भी पढ़ें: PM मोदी ने पूर्व राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की तारीफ की, कहा- आपके साथ काम करना वास्तव में सौभाग्य

नरेंद्र मोदी ने आगे कहा कि अर्थव्यवस्था को डेयरी ने स्थिरता भी दी, सुरक्षा भी दी और प्रगति के नए अवसर भी दिए। गुजरात में बीते 2 दशक में जो व्यवस्थाएं तैयार हुई, आज उसके बेहतर परिणाम मिल रहे हैं। आज गुजरात का डेयरी मार्किट 1 लाख करोड़ रुपये तक पहुंच चुका है। उन्होंने कहा कि गुजरात में सहकारिता की एक समृद्ध परंपरा रही है, और संस्कार भी है। तभी तो सहकार है और सहकार है, तभी तो समृद्धि है। दूध से जुड़े सहकारी आंदोलन को जो सफलता मिली है, इसका विस्तार अब हम खेती से जुड़े बाकी क्षेत्रों में भी कर रहे हैं। प्रधानमंत्री ने कहा कि देश में आज 10 हजार किसान उत्पादक संघ - FPOs के निर्माण का काम तेजी से चल रहा है। इन FPOs के माध्यम से छोटे किसान फूड प्रोसेसिंग से जुड़ी, एक्सपोर्ट से जुड़ी वैल्यू और सप्लाई चेन से सीधे जुड़ पाएंगे। इसका बहुत अधिक लाभ गुजरात के किसानों को भी होने वाला है।

इसे भी पढ़ें: जानें क्या है चेस ओलंपियाड? आखिर क्यों भारत से नाराज होकर पाकिस्तान ने खुद को इससे किया दूर

मोदी ने दावा किया कि किसान की आय बढ़ाने के लिए जो प्रयास बीते 8 वर्षों में केंद्र सरकार ने किए हैं, उसकी वजह से गुजरात समेत देश के अलग अलग हिस्सों में किसानों की आय में बढ़ोतरी देखी जा रही है। किसानों की आय में बागवानी, पशुपालन, मछलीपालन की वजह से भी काफी वृद्धि हुई है। उन्होंने कहा कि छोटी जमीन वाले किसानों की आय में भी वृद्धि हुई है। यानी फसलों के अलावा आय के वैकल्पिक माध्यमों पर काम करने की रणनीति आज काम आ रही है। खादी और ग्रामोद्योग भी इसका एक उत्तम उदाहरण है। खादी ग्रामोद्योग का टर्नओवर पहली बार 1 लाख करोड़ रुपये से ऊपर गया है। इसके साथ ही प्रधानमंत्री ने कहा कि जिस समावेशी लोकतंत्र का सपना,आजादी के लिए अपना बलिदान देने वाले हमारे पूर्वजों ने देखा था, वो साकार हो रहा है। आज मैं साबरकांठा की इस पवित्र धरती से गुजरात के सभी लोगों और सभी देशवासियों से आग्रह करता हूं कि आजादी के 75 वर्ष पूर्ण होने पर हर घर तिरंगा अभियान शुरू किया जा रहा है। इस अभियान में 13 अगस्त से ही देश का हर घर अपने यहां तिरंगा फहराएगा। पूरे गुजरात और पूरे देश में ये तिरंगा फहरा कर एक भारत-श्रेष्ठ भारत का संकल्प लेना है।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़