2020 की आखिरी मन की बात...आत्मनिर्भर भारत का संवाद, जानें 10 बड़ी बातें

2020 की आखिरी मन की बात...आत्मनिर्भर भारत का संवाद, जानें 10 बड़ी बातें

पीएम मोदी ने कहा कि मैं देश के मैन्युफैक्चर्र और इंडस्ट्री लीडर्स से आग्रह करता हूँ, देश के लोगों ने मजबूत कदम उठाया है, मजबूत कदम आगे बढ़ाया है । फोकल फार लोकल ये आज घर-घर में गूँज रहा है । ऐसे में, अब, यह सुनिश्चित करने का समय है, कि, हमारे उत्पाद विश्वस्तरीय हों।

मन की बात कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि 4 दिन बाद 2021 शुरू होने वाला है। अगले साल अगली मन की बात होगी। अधिकतर पत्रों में लोगों ने देश के सामर्थ्य, देशवासियों की सामूहिक शक्ति की भरपूर प्रशंसा की है। जब जनता कर्फ्यू जैसा अभिनव प्रयोग, पूरे विश्व के लिए प्रेरणा बना, जब ताली-थाली बजाकर देश ने हमारे कोरोना वॉरियर्स का सम्मान किया था, एकजुटता दिखाई थी उसे भी कई लोगों ने याद किया है। कोरोना के कारण दुनिया में सप्लाई चेन को लेकर अनेक बाधाएं आई, लेकिन हमने हर संकट से नए सबक लिए। देश में नया सामर्थ्य भी पैदा हुआ। अगर शब्दों में कहना है तो इस सामर्थ्य का नाम है ' आत्मनिर्भरता।

इसे भी पढ़ें: अमित शाह ने कहा- पीएम मोदी के छह साल के शासन ने जम्मू कश्मीर में शांतिपूर्ण माहौल दिया

पीएम मोदी ने कहा कि मैं देश के मैन्युफैक्चर्र और इंडस्ट्री लीडर्स से आग्रह करता हूँ, देश के लोगों ने मजबूत कदम उठाया है, मजबूत कदम आगे बढ़ाया है । फोकल फार लोकल ये आज घर-घर में गूँज रहा है । ऐसे में, अब, यह सुनिश्चित करने का समय है, कि, हमारे उत्पाद विश्वस्तरीय हों।

इसे भी पढ़ें: संजय राउत ने UPA का दायरा बढ़ाने का किया आह्वान, बोले- विपक्ष को केंद्र के 'तानाशाही रवैये' के खिलाफ होना चाहिए एकजुट

गुरु गोविंद जी के पुत्रों को किया याद

पीएम मोदी ने कहा कि हमारे देश में आतताइयों से, अत्याचारियों से, देश की हजारों साल पुरानी संस्कृति, सभ्यता, हमारे रीति-रिवाज को बचाने के लिए, कितने बड़े बलिदान दिए गए हैं, आज उन्हें याद करने का भी दिन है। आज के ही दिन गुरु गोविंद जी के पुत्रों, साहिबजादे जोरावर सिंह और फतेह सिंह को दीवार में जिंदा चुनवा दिया गया था। अत्याचारी चाहते थे कि साहिबजादे अपनी आस्था छोड़ दें, महान गुरु परंपरा की सीख छोड़ दें ।

पीएम मोदी की बड़ी बातें

  • भारत में बनी चीजों के इस्तेमाल का संकल्प लें।
  • देश की सोच में परिवर्तन आ रहा है।
  • कोरोना के दौरान आशा का अद्भुत प्रवाह देखा।
  • देशी उत्पादों के प्रति लोगों का उत्साह बढ़ा।
  • संकंट से सबक लिया, सामर्थ्य भी दिखाया। 
  • 0 इफेक्ट से 0 डिफेक्ट के साथ काम करने का वक्त।
  • हर घर में लोकल फाॅर वोकल गूंज रहा है।
  • हमारे इत्पाद विश्वस्तरीय होने चाहिए।
  • ग्लोबल बेस्ट के लिए स्टार्टअप को आगे आने का वक्त।
  • मध्य भारत में वन्य जीवों का तेजी से संरक्षण हुआ। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।