इस्कॉन के कार्यक्रम में शरीक होने के लिये PM मोदी ने की मेट्रो की सवारी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 26, 2019   18:19
इस्कॉन के कार्यक्रम में शरीक होने के लिये PM मोदी ने की मेट्रो की सवारी

प्रधानमंत्री कार्यालय के एक सूत्र के अनुसार, ‘‘प्रधानमंत्री मोदी आयोजन स्थल पर पहुंचने के लिये वायलेट लाइन पर खान मार्केट मेट्रो स्टेशन से एक ट्रेन में सवार हुए।’

नयी दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दक्षिण दिल्ली के ईस्ट ऑफ कैलाश में इस्कॉन मंदिर में एक कार्यक्रम में हिस्सा लेने के लिये मंगलवार को खान मार्केट मेट्रो स्टेशन से मेट्रो ट्रेन से यात्रा की। मोदी मंदिर में एक विशाल भगवद्गीता का अनावरण करेंगे। 670 पन्नों की इस पवित्र पुस्तक का वजन 800 किलोग्राम है। यह मंदिर कैलाश कॉलोनी मेट्रो स्टेशन के पास स्थित है। इस्कॉन के अनुसार इस पुस्तक का नाम ‘एस्टाउन्डिंग भगवद् गीता’ दिया गया है। इसका आकार 2.8 मीटर गुणा 2 मीटर है। इसे ‘‘दुनिया की सबसे बड़ी पवित्र पुस्तक’’ के रूप में प्रस्तुत किया गया है।

प्रधानमंत्री कार्यालय के एक सूत्र के अनुसार, ‘‘प्रधानमंत्री मोदी आयोजन स्थल पर पहुंचने के लिये वायलेट लाइन पर खान मार्केट मेट्रो स्टेशन से एक ट्रेन में सवार हुए।’’ सूत्र ने बताया कि वह नेहरू प्लेस मेट्रो स्टेशन पर उतरे। डिब्बे के भीतर उन्होंने कुछ यात्रियों से बातचीत की और उनके साथ तस्वीरें खिंचवाईं। इंटरनेशनल सोसाइटी फॉर कृष्णा कॉन्शियसनेस (इस्कॉन) 400 से अधिक मंदिरों का एक विश्वव्यापी परिसंघ है जो 100 शाकाहारी रेस्त्रां और कई प्रकार की सामुदायिक सेवा परियोजनाएं भी चलाता है।

इसे भी पढ़ें: मोदी नहीं होंगे RSS की तरफ से PM पद के उम्मीदवार, गडकरी के नाम पर हो रही है चर्चा

आयोजन स्थल के आस-पास सुरक्षा के कड़े इंतजाम किये गए हैं। यहां आम तौर पर काफी भीड-भाड़ रहती है। इस्कॉन ने बताया कि 18 अति सुंदर चित्रों और एक अभिनव सुंदर लेआउट के साथ पुस्तक इटली के मिलान में युपो सिंथेटिक पेपर पर मुद्रित की गई है ताकि इसे नहीं फाड़े जाने योग्य और जलरोधी बनाया जा सके। भगवद् गीता हिंदुओं का पवित्र ग्रंथ है। यह महाकाव्य महाभारत का हिस्सा है और इसमें युद्ध के मैदान में भगवान श्रीकृष्ण द्वारा अर्जन को दी गई शिक्षाएं शामिल हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।