तमिलनाडु के वेल्लोर नगर पंचायत कार्यालय से हटाई गई PM मोदी की तस्वीर, भाजपा सदस्यों ने जताया विरोध

तमिलनाडु के वेल्लोर नगर पंचायत कार्यालय से हटाई गई PM मोदी की तस्वीर, भाजपा सदस्यों ने जताया विरोध
प्रतिरूप फोटो
ANI Image

भाजपा सदस्यों ने हाल ही में नगर पंचायत कार्यालय के भीतर प्रधानमंत्री मोदी की तस्वीर लगाई थी। ऐसे में वार्ड सदस्य कनगराज को जैसे ही इसकी भनक लगी वो तुरंत ही नगर पंचायत कार्यालय गए और प्रधानमंत्री मोदी की तस्वीर वहां से हटा दी। बता दें कि कनगराज ने निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में चुनाव लड़कर जीत दर्ज की थी।

चेन्नई। तमिलनाडु के सरकारी कार्यालय से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर हटाने का मामला सामने आया है। आपको बता दें कि तमिलनाडु के कोयंबटूर जिले में एक वार्ड सदस्य ने वेल्लोर नगर पंचायत कार्यालय से प्रधानमंत्री मोदी की तस्वीर हटा दी। वार्ड सदस्य द्रमुक समर्थक बताया जा रहा है। जिसको लेकर विवाद खड़ा हो गया और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सदस्यों ने इसका जमकर विरोध किया। 

इसे भी पढ़ें: PM मोदी के जम्मू-कश्मीर दौरे से पहले सुरक्षा के कड़े इंतेजाम, अलर्ट पर सुरक्षा एजेंसियां 

अंग्रेजी न्यूज वेबसाइट 'इंडिया टुडे' की रिपोर्ट के मुताबिक, भाजपा सदस्यों ने हाल ही में नगर पंचायत कार्यालय के भीतर प्रधानमंत्री मोदी की तस्वीर लगाई थी। ऐसे में वार्ड सदस्य कनगराज को जैसे ही इसकी भनक लगी वो तुरंत ही नगर पंचायत कार्यालय गए और प्रधानमंत्री मोदी की तस्वीर वहां से हटा दी।

कनगराज के खिलाफ हो कार्रवाई

आपको बता दें कि कनगराज ने निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में चुनाव लड़कर जीत दर्ज की थी। हालांकि उन्हें द्रमुक समर्थक बताया जा रहा है। इस मामले के सामने आने के बाद भाजपा सदस्यों ने कनगराज के खिलाफ पोथनूर पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराई और प्रधानमंत्री मोदी की तस्वीर हटाए जाने को लेकर तत्काल कार्रवाई की मांग भी की। 

इसे भी पढ़ें: 77900 तिरंगे लहराकर तोड़ा पाक का रिकॉर्ड, अमित शाह बोले- इतिहास ने बाबू कुंवर सिंह के साथ अन्याय किया 

प्रधानमंत्री मोदी की तस्वीर हटाए जाने से जुड़ी यह कोई पहली घटना नहीं है, बल्कि मध्य प्रदेश के इंदौर से भी एक मामला सामने आया था। इस दौरान इंदौर के एक शख्स ने शिकायत दर्ज कराई थी कि जमींदारों ने प्रधानमंत्री मोदी की तस्वीर नहीं हटाने पर घर से निकालने की धमकी दी है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।