प्रधानमंत्री मोदी का 30 जुलाई का सिद्धार्थनगर दौरा स्थगित, जानें क्यों रद्द हुआ कार्यक्रम

प्रधानमंत्री मोदी का 30 जुलाई का सिद्धार्थनगर दौरा स्थगित, जानें क्यों रद्द हुआ कार्यक्रम

योगी ने कहा कि उनकी सरकार के पांच वर्ष पूरे होने तक प्रदेश के सभी जिलों में मेडिकल कालेज कालेज स्थापित हो जाएंगे। सिद्धार्थनगर में अक्टूबर तक मेडिकल कालेज शुरू हो जाएगा। 300 बेड तैयार है और 100 छात्रों की पढ़ाई शुरू होगी।

लखनऊ। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का उत्तर प्रदेश के जिला सिद्धार्थनगर में प्रस्तावित 30 जुलाई का कार्यक्रम स्थगित हो गया है। पीएम मोदी को यहां एक मेडिकल कालेज का उदघाटन करना था। अब मोदी मेडकिल कालेज के नेशनल मेडकिल कमीशन के निरीक्षण और मान्यता मिलने के बाद इसका लोकार्पण करेंगे। इसकी तिथि बाद में तय की जाएगी। इससे पूर्व पीएम के कार्यक्रम के मददेनजर  मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ गत दिवस स्वशासी राज्य चिकित्सा महाविद्यालय सिद्धार्थनगर का निरीक्षण और  मेडिकल कालेज के नक्शा का अवलोकन किया था। पत्रकारों से बातचीत करते हुए सीएम योगी ने कहा कि सरकार ‘वन डिस्ट्रिक्ट वन मेडिकल कॉलेज’ की नीति पर तेजी से कार्य कर रही है। 

इसे भी पढ़ें: शुभ सावन का आगाज़, भोलेनाथ के मंदिरों में दिखा भक्तों का जमावड़ा

योगी ने कहा कि उनकी सरकार के पांच वर्ष पूरे होने तक प्रदेश के सभी जिलों में मेडिकल कालेज कालेज स्थापित हो जाएंगे। सिद्धार्थनगर में अक्टूबर तक मेडिकल कालेज शुरू हो जाएगा। 300 बेड तैयार है और 100 छात्रों की पढ़ाई शुरू होगी। कहा कि प्रदेश के नौ जनपदों में नौ नए मेडिकल कॉलेजों का लोकार्पण होना है। इंडियन मेडिकल काउंसिल टीम के निरीक्षण के बाद पीएम मोदी मेडिकल कालेजों का लोकार्पण करेंगे।

इसे भी पढ़ें: सावन के पहले सोमवार को दिखी भक्तों की भीड़, उत्तराखंड सरकार के रोक के बाद भी गंगाजल लेने आ रहे लोग

इसके लिए प्रधानमंत्री से अनुरोध किया जाएगा। सीएम योगी आदत्यिनाथ ने कहा कि सबसे बड़ी आबादी वाले राज्य में 2017 के पहले मात्र 12 मेडिकल कॉलेज ही हुआ करते थे। भाजपा के सत्ता में आने के बाद से प्रदेश में मेडिकल कॉलेजों की संख्या बढ़कर 48 हो चुकी है। प्रदेश में 13 और मेडिकल कॉलेजों के निर्माण का काम तेज गति से किया जा रहा है। इस माह जुलाई में प्रदेश में 09 नए मेडिकल कॉलेज खुलने के बाद प्रदेश की जनता को चिकित्सा सुविधाएं मिलना और अधिक सुविधाजनक हो जाएगा। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।