तंदूरी चिकन विवाद पर बोलीं महुआ मोइत्रा, गांधी के आदर्शों को होने वाले नुकसान पर विचार करे भाजपा

Mahua Moitra
ANI Image
टीएमसी सांसद महुआ मोइत्रा ने कहा कि कि भाजपा से आग्रह है कि तंदूरी चिकन को अकेला छोड़कर महात्मा गांधी के आदर्शों को होने वाले गंभीर नुकसान पर विचार करें। अहिंसा - बुलडोजर राज, सत्य - 15 लाख/भारतीय, स्वराज - संघवाद का अंत, सादगी- 10 लाख रुपए का सूट।

नयी दिल्ली। तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) सांसद महुआ मोइत्रा ने तंदूरी चिकन विवाद को लेकर शनिवार को सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि भाजपा को तंदूरी चिकन को अकेला छोड़कर महात्मा गांधी के आदर्शों को होने वाले गंभीर नुकसान पर विचार करना चाहिए। दरअसल, संसद की कार्यवाही से निलंबित सांसदों ने महात्मा गांधी की प्रतिमा के सामने 50 घंटे तक प्रदर्शन किया था। इस दौरान निलंबित सांसदों द्वारा तंदूरी चिकन खाने के बाद विवाद खड़ा हो गया था।

इसे भी पढ़ें: 'ग्राम स्वराज की कल्पना को भाजपा ने पहनाया अमलीजामा', जेपी नड्डा बोले- गांव-गरीब को पहचानने में कांग्रेस की सोच रह गई पीछे 

उन्होंने अपने ट्वीट के माध्यम से यह बताने की कोशिश की है कि कैसे बुलडोजर राज की वजह से महात्मा गांधी के अहिंसावाद को गहरा आघात हुआ है। इसके साथ ही उन्होंने सत्य, स्वराज, सादगी के बारे में भी विस्तृत कहा है। टीएमसी सांसद ने कहा कि कि भाजपा से आग्रह है कि तंदूरी चिकन को अकेला छोड़कर महात्मा गांधी के आदर्शों को होने वाले गंभीर नुकसान पर विचार करें। अहिंसा - बुलडोजर राज, सत्य - 15 लाख/भारतीय, स्वराज - संघवाद का अंत, सादगी- 10 लाख रुपए का सूट।

इसे भी पढ़ें: Parliament में भारी हंगामे के चलते सदन की कार्यवाही स्थगित, राष्ट्रपत्नी विवाद पर गर्माया माहौल 

इससे पहले भी महुआ मोइत्रा ने तंदूरी चिकन विवाद को लेकर भाजपा पर निशाना साधा था। आपको बता दें कि भाजपा प्रवक्ता शहजाद जयहिंद ने तंदूरी चिकन का मुद्दा उठाया था। इस पर महुआ मोइत्रा ने कहा था कि भाजपा के किराए के लोग इस पर टिप्पणी करते हैं कि निलंबित सांसद धरने पर क्या खाते हैं। मूर्ख आत्माएं! क्या आप नहीं जानते कि आपके मास्टर जीभ और गाल दोनों की सेवा करते हैं ?

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़