कोरोना के नये वायरस की यूपी में संभावित दस्तक !

कोरोना के नये वायरस की यूपी में संभावित दस्तक !

टीपीनगर क्षेत्र में लल्लापुरा, शंकर विहार मे रहने वाला यह परिवार 14 दिसंबर को लंदन से मेरठ आया था। इस परिवार में यहीं रहने वाली एक महिला में वायरस के लक्षण मिले, जिसकी एंटीजन जांच पाजिटिव आई।

ब्रिटेन में कोरोना वायरस का नया वेरियंट मिलने की दहशत के बीच वहां से आए एक परिवार के तीन सदस्यों के कोरोना पाॅजिटिव होने के साथ उनमें कोरोना वायरस के नए वेरियंट की संभावना से उत्तर प्रदेश की योगी सरकार हाई अलर्ट पर आ गई है। इसकी वजह है ब्रिटेन से मेरठ लौटे इस परिवार के तीन लोगों को लेकर आशंका जताई जा रही है कि इनमें कोरोना का नया वेरिएंट हो सकता है। इनमे एक छोटा बच्चा भी है। वहीं अयोध्या में भी  नवंबर से अभी तक कुल छह लोग ब्रिटेन से आ चुके हैं। इनमें दो नवंबर को, जबकि चार लोग इसी माह आए हैं। आने वालों में चार अयोध्या शहर के हैं, जबकि एक गोसाईंगंज व एक बीकापुर  निवासी हैं। हालांकि अभी तक इनमें से किसी के कोरोना पाॅजिटिव होने की रिपोर्ट नहीं आई है। हां, ब्रिटेन से मेरठ लौटे कोरोना पॉजिटिव तीन लोगों ने जरूर योगी सरकार को एलर्ट रहने को मजबूर कर दिया हैं। मेरठ जिला प्रशासन के साथ ही उत्तर प्रदेश का स्वास्थ्य महकमा भी हाई अलर्ट पर है। फिलहाल यह परिवार चिकित्सकों की देखरेख में है। सरकार की चिंता व्यर्थ नहीं है। कोरोना के नये वायरस को लेकर कोई भी लापरवाही प्रदेश की जनता के लिए पुनः गंभीर हालात पैदा कर सकता है।  

    

इसे भी पढ़ें: देश में छह महीने बाद कोरोना संक्रमण से 300 से कम मौत, 22,273 नए मामले

कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन के खतरे के बीच में मेरठ के टीपीनगर क्षेत्र में लंदन से आए एक ही परिवार के तीन लोगों में कोरोना वायरस  संक्रमण का पता चलने के बाद युवक के मां-बाप व भाभी की रिपोर्ट भी पाजिटिव आई है। पड़ोस में रहने वाले परिवार के भी नौ सदस्य संक्रमित मिले हैं। विभाग को आशंका है कि यह स्ट्रेन-2 का संक्रमण भी हो सकता है। टीपीनगर क्षेत्र में लल्लापुरा, शंकर विहार मे रहने वाला यह परिवार 14 दिसंबर को लंदन से मेरठ आया था। इस परिवार में यहीं रहने वाली एक महिला में वायरस के लक्षण मिले, जिसकी एंटीजन जांच पाजिटिव आई। इसके बाद लंदन से आए दंपती व दोनों बच्चों के साथ ही परिवार के अन्य सभी लोगों व पड़ोस में ही रहने वाले एक परिवार का आरटीपीसीआर टेस्ट कराया गया। गत दिवस जाॅंच रिपोर्ट आने के बाद पता चला कि लंदन से आए परिवार में तीन लोगों के साथ ही पिता व भाभी की रिपोर्ट भी पाजिटिव है। मां को दिल्ली के अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पास ही रहने वाले एक परिवार के नौ सदस्य भी संक्रमित मिले हैं। इसकी सूचना भी लखनऊ भेज दी गई है। मेरठ में इस तरह का केस सामने आने पर स्वास्थ विभाग अलर्ट हो गया। यहां संत बिहार टीपीनगर में ब्रिटेन से लौटे लोगों के घर के पास को कोरोना संक्रमित क्षेत्र घोषित करने के साथ वहां पर बैरिकेडिंग की गई है। जगह-जगह पर लोगों को अलर्ट करने के लिए पोस्टर्स भी लगवाए गए हैं।

इसे भी पढ़ें: तेलंगाना में कोरोना के 317 नए मामले, दो और लोगों की मौत

बहरहाल, शासन ने तीनों मरीजों में स्ट्रेन-2 की जांच के लिए सैंपल दिल्ली भेजने के लिए कहा है। परिवार को आइसोलेट कर स्वास्थ्य विभाग की निगरानी में रखा गया है। एक यात्री बीच में मेरठ से लंदन लौट गया, जबकि हैदराबाद एवं दिल्ली के निवासी दस यात्रियों का पता मेरठ का दिया गया था, जिनके बारे में स्वास्थ्य विभाग जानकारी जुटा रहा है।  मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कोरोना के इस नए स्ट्रेन को लेकर पूरी सावधानी बरतने के निर्देश देते हुए कहा कि जिन देशों में वायरस का नया स्वरूप सामने आया है, ऐसे देशों से बीते 15 दिन में प्रदेश में आए लोगों के सम्पर्क में आये व्यक्तियों का पता लगाया जाए तथा उन्हें क्वारंटीन में भेजने की प्रभावी व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। उन्होंने इस सम्बन्ध में स्वास्थ्य विभाग को एक हेल्पलाइन नम्बर जारी करने के निर्देश दिए।

इसे भी पढ़ें: हरियाणा में कोरोना के 408 नए मामले, संक्रमण से चार और लोगों की जान गई

ब्रिटेन में कोरोना का नया स्ट्रेन मिलने के बाद वहां से उत्तर प्रदेश लौटने वालों की निगरानी बढ़ा दी गई है। इसी क्रम में अयोध्या में नवंबर से अभी तक कुल छह लोग ब्रिटेन से यहां आ चुके हैं। इनमें दो नवंबर में ही आ गए थे, जबकि चार लोग दिसंबर में आए हैं। इनमें चार अयोध्या शहर के हैं, जबकि एक गोसाईंगंज व एक बीकापुर के निवासी हैं। इस माह ब्रिटेन से आने वालों को आइसोलेशन में रखा जा रहा है। अब इनकी निगरानी कर रही है। ब्रिटेन में कोरोना का नया स्ट्रेन मिलने के बाद स्वास्थ्य विभाग ने यहां भी सतर्कता बढ़ा दी है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।