प्रियंका की रैली को लेकर तैयारियां जोरों पर, वाराणसी में कांग्रेसियों ने डाला डेरा

प्रियंका की रैली को लेकर तैयारियां जोरों पर, वाराणसी में कांग्रेसियों ने डाला डेरा

सभास्थल पर मंच निर्माण के साथ ही बैरिकेडिंग का काम भी जारी है। कार्यकर्ताओं के प्रवेश, निकास और सुरक्षा इंतजाम पर भी कांग्रेस नेताओं ने मंथन किया।

वाराणसी। जगतपुर इंटर कॉलेज के मैदान में उत्तर प्रदेश कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव व उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गांधी की रविवार को होने वाली रैली कार्यक्रम को लेकर सभा स्थल में तैयारियां जोरों से चल रही है। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के द्वारा दस अक्तूबर को जगतपुर इंटर कॉलेज के मैदान पर होने वाली रैली किसानों को न्याय दिलाने और उनकी लड़ाई पर केंद्रित होगी। 

इसे भी पढ़ें: लखीमपुर हिंसा: अखिलेश का निशाना, कहा- यह संविधान को कुचलने वाली सरकार, बीजेपी का होगा सफाया 

जिसके दौरान रैली को भव्य बनाने के लिए वाराणसी में डेरा डाले नेता और स्थानीय कांग्रेसजन तैयारियों को अंतिम रूप देने में जुटे हैं शुक्रवार को जगतपुर में कांग्रेस पार्टी के पूर्व सांसद राजेश मिश्रा के साथ कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय सचिव एवं सह प्रभारी उत्तर प्रदेश राजेश तिवारी तथा राष्ट्रीय सचिव बाजीराव खाड़े, प्रदेश उपाध्यक्ष विश्व विजय सिंह, प्रदेश उपाध्यक्ष राजीव गांधी पंचायती राज संगठन उत्तर प्रदेश पूर्वी जोन नरसिंह नारायण त्रिपाठी इत्यादि पार्टी के वरिष्ठ लोगों ने सभा स्थल की तैयारियों का निरीक्षण किया।

सभास्थल पर मंच निर्माण के साथ ही बैरिकेडिंग का काम भी जारी है। कार्यकर्ताओं के प्रवेश, निकास और सुरक्षा इंतजाम पर भी कांग्रेस नेताओं ने मंथन किया। 

इसे भी पढ़ें: निर्वाचन आयोग को पत्र लिखकर एजेसियों के सर्वे पर रोक लगाने की मांग करेंगे: मायावती 

इसके साथ ही यह भी कयास लगाया जा रहा है कि दस अक्तूबर को प्रस्तावित रैली में भाग लेने के लिए प्रियंका गांधी नौ अक्तूबर की रात में ही बनारस आ सकती हैं लेकिन पार्टी के सूत्रों का कहना है कि अभी फिलहाल कोई प्रोटोकॉल नहीं आया है लेकिन संभावना है कि प्रियंका गांधी नौ अक्तूबर की रात ही बनारस पहुंच सकती है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।