राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति ने सरदार पटेल को दी श्रद्धांजलि, शाह ने अधिकारियों और सुरक्षाकर्मियों को दिलाई शपथ

President Kovind
दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल और नयी दिल्ली से सांसद मीनाक्षी लेखी भी इस मौके पर मौजूद थीं।

नयी दिल्ली। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू और गृह मंत्री अमित शाह ने शनिवार को सरदार वल्लभभाई पटेल की जयंती पर उन्हें पुष्पांजलि अर्पित की। पटेल की जयंती को ‘राष्ट्रीय एकता दिवस’ के रूप में मनाया जाता है। कई गणमान्य हस्तियों ने स्वतंत्र भारत के पहले गृह मंत्री की यहां पटेल चौक स्थित प्रतिमा पर श्रद्धांजलि अर्पित की। शाह ने सरकारी अधिकारियों, सुरक्षा कर्मियों और अन्य को ‘राष्ट्रीय एकता दिवस’ पर शपथ दिलाई। दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल और नयी दिल्ली से सांसद मीनाक्षी लेखी भी इस मौके पर मौजूद थीं।

इसे भी पढ़ें: PM मोदी ने 'स्‍टैच्यू ऑफ यूनिटी' पहुंचकर सरदार पटेल को दी श्रद्धांजलि, राष्ट्रीय एकता परेड में हुए शामिल 

शाह ने ट्वीट किया, ‘‘आज दिल्ली के पटेल चौक पर राष्ट्रीय गौरव और हम सबके प्रेरणास्रोत श्रद्धेय सरदार वल्लभभाई पटेल जी की जयंती पर उन्हें पुष्पांजलि अर्पित की।’’ उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘सरदार पटेल जी का लौह नेतृत्व, कर्तव्यनिष्ठा और राष्ट्रभक्ति सदैव हमारा मार्गदर्शन करती रहेगी।’’ प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पटेल की जयंती पर गुजरात के केवडिया में ‘स्‍टैच्यू ऑफ यूनिटी’ पर उन्‍हें श्रद्धांजलि अर्पित की। उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘राष्ट्रीय एकता और अखंडता के अग्रदूत लौह पुरुष सरदार वल्लभभाई पटेल को उनकी जन्म-जयंती पर विनम्र श्रद्धांजलि।’’ 

इसे भी पढ़ें: PM मोदी ने सरदार पटेल प्राणी उद्यान में ‘जंगल सफारी’ का किया उद्घाटन 

सरदार पटेल भारत के पहले गृहमंत्री थे और स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद देश की 560 से अधिक रियासतों का एकीकरण कर अखंड भारत के निर्माण का श्रेय उनकी सियासी और कूटनीतिक क्षमता को दिया जाता है। वर्ष 2014 से हर साल 31 अक्टूबर को ‘राष्ट्रीय एकता दिवस’ के रूप में मनाया जाता है। पटेल का जन्म 31 अक्टूबर, 1875 को गुजरात के नडियाड में हुआ था। पटेल की जयंती पर देशभर में विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं और भारत के एकीकरण में उनके योगदान को याद किया जाता है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़