प्रियंका ने सीएम योगी को लिखा पत्र, बुनकरों को एक समान दर पर बिजली उपलब्ध कराने का किया आग्रह

Priyanka Gandhi
प्रियंका ने मुख्यमंत्री से कहा कि संप्रग सरकार ने 2006 में बुनकरों के लिए फ्लैट रेट पर बिजली देने की योजना लागू की थी। मगर आपकी सरकार यह योजना खत्म करके बुनकरों के साथ बहुत नाइंसाफी कर रही है।

लखनऊ। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने उत्तर प्रदेश के बुनकरों की समस्याओं को लेकर बृहस्पतिवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखा और आग्रह किया कि बुनकरों को एक समान दर पर बिजली उपलब्ध कराने की योजना को फिर से लागू किया जाए। उन्होंने पत्र में कहा, ‘‘मेरी जानकारी में आया है कि पिछले कुछ समय से वाराणसी के बुनकर बहुत ही परेशान और हताश हैं। पूरी दुनिया में मशहूर बनारसी साड़ियों के बुनकरों के परिवार दाने-दाने को मोहताज हो गए हैं।’’ 

इसे भी पढ़ें: परिवारवाद के मुद्दे पर योगी ने साधा सपा, बसपा और कांग्रेस पर निशाना 

कांग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी के मुताबिक,कोरोना महामारी और सरकारी नीतियों के चलते उनका पूरा कारोबार चौपट हो गया है जबकि उनकी हस्तकला द्वारा सदियों से उत्तर प्रदेश का नाम रोशन हुआ है। उत्तर प्रदेश सरकार को इस कठिन दौर में उनकी पूरी सहायता करनी चाहिए। प्रियंका ने मुख्यमंत्री से कहा, ‘‘संप्रग सरकार ने 2006 में बुनकरों के लिए फ्लैट रेट पर बिजली देने की योजना लागू की थी। मगर आपकी सरकार यह योजना खत्म करके बुनकरों के साथ बहुत नाइंसाफी कर रही है।’’ 

इसे भी पढ़ें: अखिलेश का दावा, भाजपा की झूठी सरकार को हटाने के लिए सपा के साथ आ रहे लोग 

कांग्रेस महासचिव ने कहा, ‘‘मुझे बताया कि मनमाने बिजली बिल के खिलाफ जब वे हड़ताल पर गए तो सरकार ने उन्हें वार्ता के लिए बुलाया। सरकार के प्रतिनिधि ने उन्हें भरोसा भी दिलाया कि उनकी मांगें मान ली जाएंगी, लेकिन उनकी समस्याओं का समाधान करने का कोई प्रयास नहीं हुआ।’’ उन्होंने आग्रह किया कि फ्लैट रेट (एक समान दर) पर बिजली देने की योजना बहाल की जाए। फर्जी बकाये के नाम पर बुनकरों का उत्पीड़न तत्काल प्रभाव से रोका जाए। बुनकरों के बिजली कनेक्शन न काटे जाएं। जो बिजली के कनेक्शन कट गए हैं, उन्हें तत्काल जोड़ा जाए।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़