भू-अर्जन के खिलाफ जनता में आक्रोश, ग्रामीणों ने सड़क पर किया प्रदर्शन

भू-अर्जन के खिलाफ जनता में आक्रोश, ग्रामीणों ने सड़क पर किया प्रदर्शन

सिंगरौली जिले के 8 गांव में अदानी द्वारा कोल ब्लॉक के लिए अधिग्रहण किया जा रहा है। लेकिन अमरैल खोह के आदिवासी किसानों का आरोप है कि कंपनी द्वारा भू अधिग्रहण नियमों को ताक पर रखकर उनके जमीन की नपती की जा रही।

भोपाल। मध्य प्रदेश के सिंगरौली जिले के समीप लंगा डोल थाना क्षेत्र  में इन दिनों उत्खनन के लिए भू अर्जन की प्रक्रिया तेजी से चल रही है। जिसमें भू अर्जन की नीतियों का खुलासा किए बिना ही आदिवासी किसानों के भूमियों का नापी पैमाइश की जा रही है। इससे ग्रामीणों में आक्रोश की भावनाएं सड़कों पर प्रदर्शित हो रही हैं।

दरअसल सिंगरौली जिले के 8 गांव में अदानी द्वारा कोल ब्लॉक के लिए अधिग्रहण किया जा रहा है। लेकिन अमरैल खोह के आदिवासी किसानों का आरोप है कि कंपनी द्वारा भू अधिग्रहण नियमों को ताक पर रखकर उनके जमीन की नपती की जा रही। उन्हें अभी तक जमीन के एवज में मुआवजा और मिलने वाली सुविधाओं की जानकारी नहीं दी गई है।

इसे भी पढ़ें:मध्यप्रदेश में कोरोना वायरस के 530 नए मामले सामने आये, दो की मौत 

ग्रामीणों ने कहा कि कंपनी और जिला प्रशासन के अधिकारियों से कई बार भूमि अधिग्रहण नियम के तहत अधिग्रहित करने की अपील भी की गई। लेकिन इसके बावजूद भी जिला प्रशासन के अधिकारी और कंपनी के लोग एक भी बार उन्हें r&r पॉलिसी की जानकारी नहीं दी है।

वहीं किसानों ने कहा कि हमारे पास कृषि एवं महुआ फूल, तेंदूपत्ता के अलावा अन्य कोई संसाधन नहीं है। अगर कंपनी भूमि का अर्जुन करती है तो हमें स्थाई रूप से जीविकोपार्जन हेतु नौकरी पुनर्वास की व्यवस्था भूमि चिकित्सा स्वास्थ्य व शिक्षा की व्यवस्था मिलनी चाहिए। यहां तक कि पड़ोस के गांव में कंपनी द्वारा कोल उत्खनन का कार्य प्रारंभ ही कर दिया गया है। ऐसी परिस्थिति में हम लोग संशय में है कि कहीं कंपनी के ठगी का शिकार न हो जाएं।

इसे भी पढ़ें:क्या मंदिरों को सरकार के ही अधीन रहना चाहिए: मद्रास उच्च न्यायालय ने पूछा 

हालांकि एसडीएम विकास सिंह ने कहा कि धारा 12 लगा दी गई है और अब नियमतः किसानों के जमीन और घर की नापी की जा सकती है। वहीं किसानों को जिला प्रशासन के मंशा को लेकर कई सवाल भी खड़े कर रहे हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।