पंजाब के CM भगवंत मान चंडीगढ़ जिला अदालत में पेश हुए, जानिए क्या है पूरा मामला

Punjab CM Bhagwant Mann
ANI
अभिनय आकाश । Aug 06, 2022 1:27PM
आज इससे पहले मीडिया से बात करते हुए पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान ने नीति आयोग की बैठक में भाग लेने संबंधित जानकारी भी दी। उन्होंने कहा कि हम नीति आयोग की बैठक में भाग लेंगे जो 2 दिनों तक चलेगी। हम बैठक में पंजाब से जुड़े पानी, किसानों के कर्ज, एमएसपी से जुड़े सभी मुद्दों को उठाएंगे।

पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान 10 जनवरी 2020 के एक मामले को लेकर चंडीगढ़ जिला अदालत में पहुंचे। जिला अदालत की तरफ से उन्हें पिछली तारीख में ही अदालत में पेश होने के लिए कहा गया था। मान के साथ पंजाब के पूर्व एडवोकेट जनरल अनमोल रतन सिंह भी मौजूद थे। कोर्ट में सीएम भगवंत मान को चार्जशीट की कॉपी दी गई। जिसके बाद वो कोर्ट से रवाना हो गए। पंजाब सीएम से संबंधित ये मामला 2020 का है। प्राप्त जानकारी के अनुसार चंडीगढ़ पुलिस ने एमएलए छाट्रावस के सामने बिजली दरों में बढ़ोतरी के खिलाफ विरोध प्रदर्शन के दौरान उस वक्त आप के नेता और संगरूर से सांसद के व पार्टी के सात विधायकों पर पुलिस की काम में बाधा डालने और मारपीट करने के आरोप में मामला दर्ज किया था। 

इसे भी पढ़ें: आईसीआईसीआई, पंजाब नेशनल बैंक ने बाह्य मानक आधारित उधारी दरें बढ़ाईं

आज इससे पहले मीडिया से बात करते हुए पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान ने नीति आयोग की  बैठक में भाग लेने संबंधित जानकारी भी दी। उन्होंने कहा कि हम नीति आयोग की बैठक में भाग लेंगे जो 2 दिनों तक चलेगी। हम बैठक में पंजाब से जुड़े पानी, किसानों के कर्ज, एमएसपी से जुड़े सभी मुद्दों को उठाएंगे। यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री इसमें शामिल नहीं हुए। 

इसे भी पढ़ें: CWG 2022: वेटलिफ्टर विकास ठाकुर ने सिल्वर मेडल जीत सिद्धू मूसेवाला के अंदाज में मनाया जश्न

भगवंत मान ने कहा कि हमने दिल्ली में किसानों के विरोध प्रदर्शन के दौरान जान गंवाने वाले किसानों के परिवारों को अनुग्रह राशि दी है। 2-3 किसान तकनीकी कारणों से बचे हैं, जिनका जल्द ही समाधान किया जाएगा। हमने उन्हें भी करीब 200 नौकरियां दी हैं।  

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़