राजस्थान के बाड़मेर में बेटी नें कायम की मिसाल, दिया छात्रावास बनाने के लिए 75 लाख का दान

राजस्थान के बाड़मेर में बेटी नें कायम की मिसाल, दिया छात्रावास बनाने के लिए  75 लाख का दान

बाड़मेर जिले के कानोड़ गाँव की रहने वाली अंजली ने अपनी शादी में मिलने वाली 75लाख की रकम को हॉस्टल निर्माण में दिया। इससे पहले उनके पिता इस हॉस्टल के लिए 1करोड़ रुपये दे चुके थे। लेकिन हॉस्टल का कार्य पूरा नहीं हो पाया। अंजली ने तब तय कर लिया कि वो इस हॉस्टल का निर्माण पूरा करा कर ही दम लेंगी

राजस्थान का बाड़मेर इलाका यहाँ की एक शादी की वजह से सुर्खियों में है। शादी में एक बेटी नें अपने पिता शादी में मिलने वाली रकम को गर्ल हॉस्टल बनाने के लिए दान कर दिया। यह रकम 75 लाख है। पिता ने भी बेटी की इच्छा को पूरा कर एक मिसाल पेश की है।

इसे भी पढ़ें: कटरीना कैफ के लिए राजस्थान में बन रही है खास मेहंदी, कीमत जानकर उड़ जाएंगे होश

बाड़मेर जिले के कानोड़ गाँव की रहने वाली अंजली ने अपनी शादी में मिलने वाली 75 लाख की रकम को हॉस्टल निर्माण में दिया। इससे पहले उनके पिता इस हॉस्टल के लिए 1करोड़ रुपये दे चुके थे। लेकिन हॉस्टल का कार्य पूरा नहीं हो पाया। अंजली ने तब तय कर लिया कि वो इस हॉस्टल का निर्माण पूरा करा कर ही दम लेंगी।

पिता किशोर सिंह ने कहा कि उनकी बेटी ने उनसे कहा कि उसे गहने या महंगा सामान नहीं चाहिये। मुझे बस खाली चेक चाहिये जो मैं छात्रावास के बनने के लिए दे सकूँ। मैंने तो बस अपनी बेटी का सपना पूरा किया है। अंजली ने 12वीं तक पढ़ाई जोधपुर में की और दिल्ली आ कर ग्रेजुएशन किया।अभी वो वकालत की पढ़ाई कर रहीं है।अंजली के इस कार्य की तारीफ़ उनके ससुराल भी कर रहे हैं। 

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस में क्या होगी सचिन पायलट की जिम्मेदारी? अपनी भूमिका को लेकर खुद किया बड़ा खुलासा

राजस्थान में किसी जमाने मे लोग बेटियों को पैदा होते ही मार देते थे। लेकिन बदलते हालात के साथ बेटियों ने ये साबित किया है कि, वो किसी से कम नहीं है। अब माँ बाप भी अपने बेटियों के सपनों को पंख देने की कोशिश करते हैं। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।