राजस्थान: भाजपा की प्रदेश कार्यसमिति की बैठक अगले माह, अमित शाह आएंगे

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 25, 2021   18:10
राजस्थान: भाजपा की प्रदेश कार्यसमिति की बैठक अगले माह, अमित शाह आएंगे

भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनियां ने बृहस्पतिवार को यहां बताया कि पार्टी की प्रदेश कार्यसमिति की4-5 दिसंबर को बैठक होगी तथा प्रदेश इकाई ने पांच दिसंबर को जनप्रतिनिधियों का एक विशेष कार्यक्रम आयोजित किया है।

जयपुर। भारतीय जनता पार्टी की राजस्थान इकाई की कार्यसमिति की बैठक चार-पांच दिसंबर को यहां होगी जिसके समापन सत्र को केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह संबोधित करेंगे। भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनियां ने बृहस्पतिवार को यहां बताया कि पार्टी की प्रदेश कार्यसमिति की4-5 दिसंबर को बैठक होगी तथा प्रदेश इकाई ने पांच दिसंबर को जनप्रतिनिधियों का एक विशेष कार्यक्रम आयोजित किया है। पूनियां ने संवाददाताओं से कहा कि कार्यसमिति के समापन समारोह में केंद्रीय गृह मंत्री अतिम शाह शामिल होंगे तथा कार्यसमिति के समापन सत्र को संबोधित करने के बाद वह राज्य के पंचायत स्तरीय जनप्रतिनिधियों से लेकर सांसदों और विधायकों से मिलेंगे।

इसे भी पढ़ें: पंजाब में जो उत्कृष्ट शिक्षा प्रणाली चाहते हैं, वे आप के पक्ष में मतदान करें: केजरीवाल

इस विशेष जनप्रतिनिधि कार्यक्रम में लगभग 10 हजार जनप्रतिनिधि शामिल होंगे। उन्होंने कहा कि इस बैठक में पार्टी की संगठनात्मक समीक्षा और आगामी कार्ययोजना पर चर्चा होगी तथा, साथ ही केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं की जानकारी घर घर तक पहुंचाने की योजना आदि पर भी विचार किया जाएगा।

इसे भी पढ़ें: कैंसर से बचाव का उपाय खोजने का समय आ गया है : नितिन गडकरी

पार्टी की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे की मेवाड़ क्षेत्र की यात्रा पर संबंधी सवाल पर पूनियां ने कहा, ‘‘ वसुंधरा जी राज्य की सम्मानित नेता हैं और उनकी अपनी व्यक्तिगत यात्रा है.. उस लिहाज से मैं नहीं समझता उस पर कोई राजनीतिक टिप्पणी की जाये।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।