कैंसर से बचाव का उपाय खोजने का समय आ गया है : नितिन गडकरी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 25, 2021   18:00
कैंसर से बचाव का उपाय खोजने का समय आ गया है : नितिन गडकरी

केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने बृहस्पतिवार को कहा कि देश के कैंसर अस्पताल मरीजों से भरे हुए हैं और अब समय आ गया है कि इस जानलेवा बीमारी से युवा पीढ़ी के बचाव का उपाय खोजा जाए।

औरंगाबाद। केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने बृहस्पतिवार को कहा कि देश के कैंसर अस्पताल मरीजों से भरे हुए हैं और अब समय आ गया है कि इस जानलेवा बीमारी से युवा पीढ़ी के बचाव का उपाय खोजा जाए। कोरोना वायरस संक्रमण महामारी के विषय में बात करते हुए गडकरी ने कहा कि इसकी दूसरी लहर के दौरान अन्य राज्यों से जहां मरीजों को जरूरत थी, वहां तक ऑक्सीजन का परिवहन चुनौती भरा काम था। सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री लातूर जिले में विवेकानंद मेडिकल फाउंडेशन एवं रिसर्च सेंटर द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे।

इसे भी पढ़ें: महाराष्ट्र में एमवीए के सत्ता में दो वर्ष पूर, चुनौतियों के बावजूद स्थिर रहा गठबंधन

गडकरी ने कहा, ‘‘महामारी के दौरान ऑक्सीजन का परिवहन और उसे दूसरे राज्यों से लाना बड़ी चुनौती थी। हमने विमान से खाली ट्रकों को उठाया और उन्हें विशाखापत्तनम भेजा और ऑक्सीजन से भरे हुए ट्रक वापस लेकर आए। उस समय देश में सिर्फ 17,000 वेंटीलेटर थे। उस समय हमें देश के स्वास्थ्य क्षेत्र की कमियां नजर आयीं।’’ मंत्री ने कैंसर से बचाव और उसके उपचार को सभी मरीजों के लिए वहनीय बनाने पर जोर दिया। गडकरी ने कहा, ‘‘आज कहीं सुविधाओं की कमी है, अगर हमारे पास दवाएं हैं भी तो वह महंगी हैं।

इसे भी पढ़ें: माँ गंगा की आरती देखने बनारस पहुँचे बॉलीवुड स्टार अहान शेट्टी और तारा सुतरिया

महंगा उपचार और जांच सभी वहन नहीं कर सकते है। नेताओं, पार्टी कार्यकर्ताओं और लोगों को उनके साथ खड़े होना चाहिए जो समाज की सेवा कर रहे हैं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘आज हम देख सकते हैं कि कैंसर अस्पताल भरे हुए हैं। पहले मुंबई से सिर्फ एक बड़ा कैंसर अस्पताल हुआ करता था, लेकिन अब देखें तो टाटा इंस्टीट्यूट में कैंसर के लिए कई अस्पताल शुरू किए हैं और सभी भरे हुए हैं।’’ मंत्री ने लोगों में विभिन्न प्रकार के कैंसर के खतरे को कम करने के तरीके खोजने पर बल दिया।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।