ऑक्सीजन की कमी को लेकर केंद्र पर गलत आरोप लगा रही है राजस्‍थान सरकार: मेघवाल

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 27, 2021   21:16
ऑक्सीजन की कमी को लेकर केंद्र पर गलत आरोप लगा रही है राजस्‍थान सरकार: मेघवाल

केंद्रीय मंत्री अर्जुनराम मेघवाल ने मंगलवार को राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार पर राज्य में ऑक्सीजन व रेमडेसिविर की कमी को लेकर केंद्र सरकार पर गलत आरोप लगानेका इल्ज़ाम लगाते हुए कहा कि गहलोत सरकार अपनी नाकामियों को छुपाने का प्रयास कर रही है।

जयपुर। केंद्रीय मंत्री अर्जुनराम मेघवाल ने मंगलवार को राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार पर राज्य में ऑक्सीजन व रेमडेसिविर की कमी को लेकर केंद्र सरकार पर गलत आरोप लगानेका इल्ज़ाम लगाते हुए कहा कि गहलोत सरकार अपनी नाकामियों को छुपाने का प्रयास कर रही है। मंत्री ने डीजिटल संवाददाता सम्मेलन में कहा,“ केंद्र की भाजपा नीत मोदी सरकार ‘सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास’ के मूल मंत्र के साथ काम करने वाली सरकार है, जबकि राजस्थान की गहलोत सरकार अपनी नाकामियों को छुपाने का प्रयास कर रही है।”

इसे भी पढ़ें: जींद में पुलिस के गाड़ी रोक लेने से ऑक्सीजन के अभाव में मरीज की मौत, एसपी ने जांच बैठाई

उन्‍होंने कहा कि राजस्थान सरकार अस्पतालों के मूल बुनियादी ढांचे को दुरूस्त करने में भी असफल रही है, और पाईपलाईन से ऑक्सीजन आपूर्ति की व्यवस्था भी अधिकतर अस्पतालों में उपलब्ध नहीं है। मेघवाल ने कहा, “ऐसे समय पर जब पूरा देश इस वैश्विक महामारी से संघर्ष कर रहा है, तब राजस्थान के मुख्यमंत्री का ये कहना कि भाजपा सांप्रदायिकता की राजनीति करती है, उनकी हताशा और निराशा को व्यक्त करता है व जनता का ध्यान भटकाने की कोशिश को दर्शाता है।”

इसे भी पढ़ें: जबलपुर हाई कोर्ट ने मांगी 28 अप्रैल को केंद्र व प्रदेश सरकार से 19 बिंदुओं की प्रगति रिपोर्ट

मंत्री ने केंद्र सरकार द्वारा राज्‍य के लिए ऑक्सीजन व रेमडेसिविर कोटे के बारे में तथ्य भी संवाददाताओं के सामने रखे। उन्‍होंने कहा कि कोरोना मरीजों के इलाज में सहायक साबित हो रहे रेमडेसिविर इंजेक्शन का राजस्थान के लिए कोटा 26500 था जिसे राज्य सरकार की मांग पर बढ़ाकर 67000 कर दिया गया है अर्थात निर्धारित कोटे से 40500 ज्यादा कोटा आवंटित किया गया है। इसी तरह राज्‍य का ऑक्‍सीजन का कोटा भी 65 टन से बढ़ाकर अब 265 मीट्रिक टन कर दिया गया है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।