राजस्थान में 10वीं और 12वीं की शेष बोर्ड परीक्षाएं कराने का निर्णय

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 30, 2020   09:37
राजस्थान में 10वीं और 12वीं की शेष बोर्ड परीक्षाएं कराने का निर्णय

मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को इन परीक्षाओं के दौरान कोरोना वायरस महामारी के संदर्भ में जारी स्वास्थ्य प्रोटोकॉल का पालन सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि सभी परीक्षा केन्द्रों पर परीक्षार्थियों और अध्यापकों द्वारा मास्क तथा सेनिटाइजर के उपयोग की अनिवार्यता सुनिश्चित की जाए।

जयपुर। राजस्थान सरकार ने कोविड-19 महामारी के कारण स्थगित की गई 10वीं और 12वीं कक्षाओं के विभिन्न विषयों की बोर्ड परीक्षाएं कराने का निर्णय लिया है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने इसके लिए शिक्षा विभाग के अधिकारियों को समुचित व्यवस्थाएं करने के निर्देश दिए हैं। गहलोत ने शुक्रवार को शिक्षा विभाग के अधिकारियों के साथ उच्च स्तरीय बैठक में यह निर्णय लिया। इस निर्णय के बाद अब 10वीं और 12वी कक्षाओं के विभिन्न विषयों की शेष रही परीक्षाओं की तिथियों को कार्यक्रम राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड, अजमेर द्वारा जारी किया जाएगा। 

इसे भी पढ़ें: राजस्थान में 31 मई के बाद भी जारी रहेगा रात्रिकालीन कर्फ्यू

मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को इन परीक्षाओं के दौरान कोरोना वायरस महामारी के संदर्भ में जारी स्वास्थ्य प्रोटोकॉल का पालन सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि सभी परीक्षा केन्द्रों पर परीक्षार्थियों और अध्यापकों द्वारा मास्क तथा सेनिटाइजर के उपयोग की अनिवार्यता सुनिश्चित की जाए। उन्होंने कहा कि साथ ही, विद्यार्थियों के परीक्षा केन्द्र पर आवागमन और परीक्षा के दौरान सामाजिक दूरी के नियम का सख्ती से पालन हो। उन्होंने आवश्यकता के अनुसार परीक्षा केन्द्रों की संख्या बढ़ाने का सुझाव दिया और कहा कि जिन स्कूल भवनों में पृथक केन्द्र संचालित किये जा रहे है, उन भवनों को परीक्षा से पहले तय प्रोटोकॉल के अनुसार संक्रमण मुक्त किया जाए तथा वहां स्वास्थ्य सुरक्षा मानकों की सम्पूर्ण व्यवस्था की जाए।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।