राकेश टिकैत ने मोदी सरकार को बताया कारपोरेट समर्थक, कहा- तभी हमसे नहीं कर रहे बात

राकेश टिकैत ने मोदी सरकार को बताया कारपोरेट समर्थक, कहा- तभी हमसे नहीं कर रहे बात

किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि किसानों का आंदोलन केंद्र सरकार के महज तीन विवादास्पद कृषि कानूनों के खिलाफ नहीं है बल्कि देश को बचाने के लिए है। उन्होंने कहा कि यह आंदोलन नौ महीने से जारी है और सरकार ने 22 जनवरी के बाद बातचीत नहीं की है।

चंडीगढ़। केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ किसान संगठनों का विरोध प्रदर्शन नौ महीने से भी अधिक समय से जारी है। इसी बीच भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने केंद्र की मोदी सरकार पर निशाना साधा और उसे कारपोरेट समर्थक बताया। 

इसे भी पढ़ें: कृषि कानूनों से जुड़े एक सवाल का जवाब भी नहीं दे सके टिकैत, कैमरे के सामने फजीहत होती देख एंकर पर ही करने लगे निजी हमले 

22 जनवरी के बाद नहीं हुई बातचीत

किसान नेता ने कहा कि दिल्ली की सीमाओं पर बैठे किसान भी तभी अपने घर वापस जाएंगे जब उनकी मांगें पूरी हो जाएंगी। टिकैत ने कहा कि किसानों का आंदोलन केंद्र सरकार के महज तीन विवादास्पद कृषि कानूनों के खिलाफ नहीं है बल्कि देश को बचाने के लिए है। यह आंदोलन नौ महीने से जारी है और सरकार ने 22 जनवरी के बाद बातचीत नहीं की है। हमने बार-बार कहा है कि यह सरकार बड़े उद्योगपतियों द्वारा चलाई जा रही है। इसलिए वे हमसे बात नहीं कर रहे हैं।

इसी बीच राकेश टिकैत ने केंद्र सरकार पर सार्वजनिक उपक्रमों को बेचने का आरोप लगाया। दरअसल, किसानों की मांग है कि केंद्र सरकार तीनों कृषि कानूनों को वापस ले और न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) कानून बनाए।  

इसे भी पढ़ें: किसान नेता का दावा, दिल्ली बॉर्डर पर आतंकवाद फैला रहे हैं राकेश टिकैत 

करनाल के बसताड़ा टोल पर लाठीचार्ज

आपको बता दें कि हरियाणा के करनाल में बसताड़ा टोल पर सुरक्षाकर्मियों ने आंदोलन कर रहे किसानों पर लाठियां बरसाईं। जिसका वीडियो किसाने नेता राकेश टिकैत ने ट्विटर पर साझा किया। उन्होंने कहा कि 5 सितंबर को मुजफ्फरनगर में होने वाली महापंचायत से ध्यान भटकाने के लिए सरकार षड्यंत्र रच रही है, देशभर के किसान पूर्ण रूप से तैयार रहें। संयुक्त किसान मोर्चा के फैसले का पालन करें।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।